लोकसभा चुनावों में 200 सीट जीतेंगे, भय, भ्रष्टाचार और स्वच्छ प्रशासन  होगा भाजपा का एजेण्डा: गडकरी

इंदौर, 2 मई. भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी ने देश की बदहाली के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 200 सीटे जीतने के लिए योजना तैयार की है. गडकरी ने यहां प्रेस क्लब में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि भाजपा कांग्रेस की नाकामयाबी को मुद्दा बनाने की बजाय भय, भ्रष्टाचार और स्वच्छ प्रशासन के मुद्दों को लेकर चुनाव लड़ेगी.

गडकरी ने कहा कि केंद्र की संप्रग सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है. उन्होंने कहा कि आज चाहे जीडीपी की बात हो या कृषि विकास दर की सभी में काफी गिरावट आ गई है और मंहगाई बढ़ती जा रही है. आम आदमी और किसान की हालत खराब हो रही है. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री अर्थशास्त्री न होकर बेबस, असहाय और नकारात्मक छवि वाले बन गए है. हाल ही में हुए उपचुनावों और खासकर बड़े शहरों की नगर पालिकाओं में जिस ढंग से भाजपा को जीत मिलीं है वह उत्साह जनक है. उन्होंने भाजपा शासित राज्यों के कामकाज की तारीफ की. गडकरी ने भाजपा के पूर्व अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि राजनेताओं को राजनीति को पैसा कमाने का माध्यम नहीं बनाना चाहिए.

सहयोगी दलों से बातचीत के बाद तय करेंगे राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी

राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी को लेकर एनडीए में दरार की खबरों के बाद बीजेपी ने डैमेज कंट्रोल की कोशिश के तहत आज जोर देकर कहा कि शीर्ष संवैधानिक पद के प्रत्याशी पर अंतिम फैसला एनडीए और छोटे दलों से सलाह-मशविरे के बाद ही लिया जाएगा. गडकरी ने कहा- हम राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद के लिए किसी भी उम्मीदवार के अंतिम चयन से पहले एनडीए के नेताओं से व्यक्तिगत और सामूहिक चर्चा करेंगे. इस सिलसिले में छोटे सियासी दलों से भी सलाह-मशविरा किया जाएगा, क्योंकि राजनीति के मौजूदा दौर में क्षेत्रीय पार्टियों की अहम भूमिका है. हम खुद पहल करते हुए इस बारे में भी संभावनाएं खंगालेंगे कि क्या राष्ट्रपति चुनाव को लेकर यूपीए के कुछ दलों के साथ कोई सहमति बनाई जा सकती है. उन्होंने राष्ट्रपति पद के लिए कलाम के नाम पर वरिष्ठ बीजेपी नेता सुषमा स्वराज के बयान को लेकर सफाई भी दी. उन्होंने कहा, कलाम बहुत बड़े व्यक्ति हैं. सुषमा जी ने यही कहा था कि राष्ट्रपति पद के लिए उनका नाम अच्छे नामों में शामिल है. लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनके नाम पर (बीजेपी के भीतर) अंतिम फैसला किया जा चुका है.

Related Posts: