व्यापमं ने पुख्ता किए सुरक्षा उपाय, पुलिस भी रहेगी तैनात

भोपाल, 9 जून, नभासं. प्री-मेडिकल टेस्ट रविवार को राजधानी के 17 और प्रदेश के 14 शहरों के 88 परीक्षा केन्द्रों पर होगा. परीक्षा दोपहर 12 बजे से 3:15 बजे तक होगी. पीएमटी में राजधानी से करीब 11 हजार और सभी शहरों से 38 हजार परीक्षार्थी बैठेंगे. विद्यार्थियों पर निगरानी रखने के लिए इस बार व्यापमं ने परीक्षा शहर और परीक्षा केन्द्रों में कमी की है.

कम परीक्षा शहर और परीक्षा केन्द्रों में कमी की है. कम परीक्षा शहर होने से निगरानी आसानी से हो सकेगी. राज्य के स्वशासी, शासकीय, निजी मेडिकल व डेंटल कॉलेजों में एमबीबीएस व वीडीएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए पीएमटी आयोजित है.
इसके अलावा इस प्रवेश परीक्षा के माध्यम से विद्यार्थियों को जबलपुर विवि के अंतर्गत आने वाले पशु चिकित्सा व पशु महाविद्यालयों में बीवीएससी व एएच पाठ्यक्रमों और मत्स्य विज्ञान के स्नातक पाठ्यक्रम में भी प्रवेश मिलेगा. इस परीक्षा को लेकर व्यापमं कड़े सुरक्षा इंतजाम करने में लगा है.

यह होंगे केन्द्र
राजधानी में राजभोज हायर सेकंडरी स्कूल, नवीन कन्या हायर सेकंडरी स्कूल, कस्तुरबा हायर सेकंडरी स्कूल, कमला नेहरू हायर सेकंडरी स्कूल, हमीदिया कॉलेज , एमवीएम, एमएलबी कालेज, गीतांजली कालेज, गीतांजलि कालेज, नूतन कालेज, पीजीबीटी महाविद्यालय, महाराणा प्रताप हायर सेकंडरी स्कूल, निशातपुरा हायर सेकंडरी स्कूल सहित 17 सरकारी स्कूल और कालेजों को परीक्षा केन्द्र बनाया गया है.

खंगाली पुरानी फाइलें
व्यापमं ने रविवार को होनी वाली पीएमटी में फर्जी छात्रों को पकडऩे के लिए चार साल पुराने दस्तावेज खंगाल डाले हैं.फाइलों में मिले नामों की सूची तैयार की जा रही है, जिनका मिलान वर्तमान पीएमटी में शामिल होने वाले आवेदकों से किया जाएगा.इसके चलते परीक्षा के दौरान उनसे पूछताछ भी हो सकती है.

एसबीआई और एम्स की परीक्षा में नकली विद्यार्थियों की कारस्तानी को देखते हुए व्यापमं रविवार की पीएमटी को काफी गंभीरता से ले रहा है.दस सालों में व्यापमं के हत्थे करीब सौ फर्जी परीक्षार्थी चढ़ चुके हैं.इस ग्राफ को यहीं रोकने के लिए व्यापमं पिछली चार पीएमटी में शामिल हुए आवेदकों की फाइलों की खोजबीन कर रहा है.परीक्षा शुरू होने भले ही एक दिन बचा हो, लेकिन व्यापमं अपनी तरफ से कोई चुक करना नहीं चाहता है. इसलिए वह पिछले चार साल में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों की सूची तैयार करने में लग गया है.इसमें ऐसे परीक्षर्थियों को तलाशा जाएगा, जिन्होंने मेडिकल कालेजों में प्रवेश ले लिया है.इन परीक्षार्थियों का मिलान वर्तमान पीएमटी में शामिल होने वाले आवेदकों से किया जाएगा और कोई ऐसा आवेदक मिलता है, तो व्यापमं आवेदक से परीक्षा के दौरान सवाल जवाब भी कर सकता है.
उचित जवाब नहीं मिलने पर व्यापमं परीक्षार्थी पर नकल कराने का प्रकरण भी दर्ज करा सकता है.व्यापमं यह परीक्षा प्रदेश के 14 शहरों में कराएगा, जिसके प्रवेश पत्र अपलोड कर दिए गए हैं.आवेदक प्रवेश पत्रों को डाउनलोड कर सीधे परीक्षा में शामिल हो सकते हैं.प्रदेश भर से 38 हजार 671 और राजधानी से पांच हजार 919 आवेदक पीएमटी देंगे.इसके लिए व्यापमं ने प्रदेश में 88 और राजधानी में डेढ़ दर्जन परीक्षा केंद्र तैयार किए हैं. यह परीक्षा दोपहर 12 से दोपहर सवा तीन बजे तक चलेगी.

बढेंग़ी एमबीबीएस की सीटें

भोपाल 9 जून, नभासं. प्रदेश के सभी छह मेडिकल कालेजों में अगले साल से एमबीबीएस की सीटों में इजाफा हो जाएगा.हर कालेज में एमबीबीएस की सीटें बढ़कर दो से ढाई सौ हो जाएंगी.इसके लिए केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने संचालनालय चिकित्सा शिक्षा से प्रस्ताव मांगा है.इसमें मेडिकल कालेजों से अस्पतालों में बिस्तरों की क्षमता की जानकारी भी मांगी गई है.

प्रदेश के सभी छह मेडिकल कालेजों: में एमबीबीएस की 680 सीटें बढ़ाई जानी है.एमसीआई द्वारा मापदण्डों में ढील के बाद केन्द्र से सभी राज्यों से बुनियादी सुविधाओं व अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या के बारे में जानकारी मांगी है.संचालनालय चिकित्सा शिक्षा ने यह प्रस्ताव केन्द्र को भेज भी दिया है.जल्द ही मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) की टीम इन मेडिकल कालेजों का निरीक्षण करेगी.इसके तहत गांधी मेडिकल कालेज भोपाल में एमबीबीएस की 110 सीटें बढ़ाने का प्रस्ताव है.ये सीटें बढऩे के बाद जीएमसी में एमबीबीएस की सीटें 250 हो जाएंगी.नए नियमों में 150 सीटों की पात्रता रखने वाले मेडिकल कालेजों को 250 सीटों की मान्यता देने का प्रावधान किया गया है.साथ ही नए सरकारी मेडिकल कालेजों की शैक्षणिक सत्र की शुरुआत 200 सीट से कराने की योजना है.सरकारी मेडिकल कालेजों में सीटों की बढ़ोतरी के लिए उनसे संबद्ध अस्पतालों की बिस्तर क्षमता, ओपीडी और स्टाफ की जानकारी केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को भेज दी गई है.चिकित्सा शिक्षा राज्यमंत्री महेन्द्र हार्डिया ने बताया सीटें बढ़ाने के लिए स्टाफ की नियुक्ति भी जल्द की जाएगी.संयुक्त संचालक चिकित्सा शिक्षा डा. एनएम श्रीवास्तव ने बताया कि गांधी मेडिकल कालेज सहित अन्य कालेजों में बढऩे जा रही एमबीबीएस सीटों के लिए प्रवेश प्रक्रिया अगले सत्र से शुरू होगी.

Related Posts: