आंध्रप्रदेश के पोरत्नानगर में हुई घटना

हैदराबाद, 1 जनवरी. आंध्र प्रदेश में नव वर्ष के स्वागत के दौरान दो अलग-अलग स्थानों पर जहरीली शराब पीने के कारण शनिवार से अबतक 17 लोगों की मौत हो चुकी है. अधिकारियों के अनुसार जहरीली शराब पीने से कृष्णा जिले में रविवार तक 16 और नलगोंडा जिले में एक व्यक्ति की मौत हो गई.

नए साल की सुबह होने से कुछ घंटे पहले कृष्णा जिले के पोरत्नानगर में ये मौते हुईं. तीन जनजातीय बस्तियों में रहने वाले लोगों ने शनिवार को देसी शराब पी थी. तीन जनजातीय बस्तियों में रहने वाले लोगों ने शनिवार को देसी शराब पी थी. हालत बिगडऩे के बाद उन्हें अस्पताल में दाखिल कराया गया. मरने वालों में तीन महिलाएं भी हैं. मिलावरम और विजयवाड़ा के अस्पतालों में आठ लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है. 10 लोगों की मौत शनिवार रात को हो गई थी, जबकि पांच की मौत रविवार सुबह हुई. चिकित्सकों का कहना है कि ऐसा प्रतीत होता है कि देसी शराब में मिथाइल अल्कोहल मिली हुई थी. शराब के नमूने को रासायनिक जांच के लिए हैदराबाद भेजा गया है. अस्पताल का दौरा करने वाले एक वरिष्ठ आबकारी अधिकारी ने कहा कि सम्भव है कि शराब में जहरीला पदार्थ मिला हो. मरने वालों के परिजनों ने अस्पताल के बाहर प्रदर्शन कर मुआवजे की मांग की.

मरने वालों के परिजनों के आबकारी विभाग के कार्यालय के सामने धरना दिया और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने तथा पीडि़तों के परिजनों को 10 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग की. प्रदर्शनकारियों के साथ धरने पर बैठे तेलुगु देसम पार्टी (तेदेपा) नेता डी. उमामहेश्वर राव को पुलिस ने रविवार सुबह गिरफ्तार कर लिया. आबकारी मंत्री एम. वेंकटरमन ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने मिलावरम के आबकारी विभाग के सर्किल इंस्पेक्टर और सब-इंस्पेक्टर के भी निलम्बन का आदेश दिया है.

Related Posts: