• 50 लाख का माल बरामद, 4 बदमाश गिरफ्तार

भोपाल, 14 नवंबर, नभासं. बाग सेवनिया थाना प्रभारी सी.पी. द्विवेदी द्वारा अपने-अपने थाना स्टाफ के साथ 108 नकबजनी की वारदातों को अंजाम देने वाले एक शातिर नकबजन गिरोह को अपनी गिरफ्त में ले लिया है. साथ ही उनके पास से करीब 80 लाख रुपये का चोरी का माल भी बरामद कर लिया है.

यह बात सोमवार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक योगेश चौधरी ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताई. इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक दक्षिण अभय सिंह उपस्थित थे. योगेश ने आगे बताया कि इस गिरोह का मुखिया सुनील उर्फ पाउच (25) पुत्र रवि इंगले नई बस्ती बाग मुगालिया निवासी है. वह अपने साथियों जीतू मीणा, लक्ष्मी नारायण, रमेश उर्फ मुकेश तथा अन्य के साथ मिलकर नकबजनी तथा चोरी की वारदातों को अंजाम देते थे. इस गिरोह के लोगों से गहन पूछताछ करने पर वादातों का खुलासा हुआ. इन आरोपियों द्वारा भोपाल जिले में 108 नकबजनी की वारदातें करना कबूल किया गया.

यहां की गईं वारदातें
थाना बाग सेवनिया में 28, थाना मिसारोद में 6, थाना गोङ्क्षवदपुरा में 4, थाना अशोका गार्डन की 10, थाना पिपलानी की 21, थाना हबीबगंज की 11, थाना कोलार रोड की 4, थाना कमला नगर में 8, थाना मंगलवारा में 3, थाना शाहजहांनाबाद में 5, थाना बैरागढ़ में 4, गांधीनगर में 1 कुल 108 चोरी तथा नकबजनी की वारदातों को अंजाम दिया गया.

बरामद हुआ माल
अब तक सोने के जेवरात में 77 अंगूठी, 2 मंगलसूत्र 22 जोड़, टाप्स 15 जोड़ी, झूमकी 22 जोड़, कान की बाली 8 जोड़, गले के हार, 14 जोड़ी, चूड़ी, 28 चैन, 6 लॉकेट, कान चैन 4 तथा 10 लोगें कुल करीब 1100 ग्राम सोना बरामद किया गया. इसके अलावा चांदी के जेवरात में 8 करधोनी, 250 सिक्के, 2 मुकुट, 5 छत्र, 24 लच्छे, 8 झूमर, 200 बिछुड़ी, 4 अंगूठी, 8 जोड़े कड़े और 50 जोड़ी पायल कुल करीब 10 किलो 500 ग्राम चांदी बरामद कर ली गई. जेवरातों के अलावा चोरी में उपयोग लाये गये वाहन मारुति वैन एमपी-09 वी-7194, मारुति इको कार क्र. एमपी-04 सीजी-7268 भी बरामद कर ली गई. मारुति वैन आरोपी जीतू मीणा ने खरीदी थी. मारुति इको आरोपी लक्ष्मी तथा जीतू मंडीदीप से किराये पर लाये थे.

पूछताछ में मिली जानकारी
शातिर बदमाश सुनील (27) पिता रवि इंगले मूलत: ग्राम घिरनी थाना मलाकापुर महाराष्ट का रहने वाला है. सुनील ने कक्षा चौथी तक पढ़ाई करने के बाद विगत 8 वर्षों से चोरी और नकबजनी करके मां और भाई का पालन-पोषण कर रहा है. दूसरा आरोपी लक्ष्मीनारायण उर्फ लक्ष्मी (19) पिता कोमल ङ्क्षसह यादव मूलत: ग्राम भैसावाही थाना बेगमगंज जिला रायसेन निवासी है जो कि वर्तमान में मंडीदीप में रहता है. इसने सुनील के साथ मिलकर 41 वारदातें करना स्वीकार किया. तीसरा आरोपी जितेंद्र उर्फ जीतू मीणा (25) पिता रतनलाल मीणा मूलत: ग्राम पड़ोनिया जिला रायसेन निवासी है. इसने सुनील के साथ अब तक 47 वारदातें करना कबूल किया है. चौथा आरोपी रमेश उर्फ मुकेश (34) पिता ओंकार लाल धुर्वे मूलत: कतलाधाना थाना बैतूल निवासी है. इसने सुनील के साथ अब तक 36 वारदातें करना कबूल किया है. ये आरोपी मूलत: सूने घर को निशाना बनाते थे. जीतू और रमेश घूम-धूमकर सूने घरों को खोजा करते थे. साथ ही उक्त घर की कुछ दिनों तक रैकी भी करते थे. इसके बाद चोरी व नकबजनी को अंजाम देते थे. इस दौरान दो पहिया, चार पहिया या फिर कभी ऑटो से घटना स्थल पहुंचते थे. ऑटो वाले को शंका न हो इसलिये कई आटो बदला करते थे. वारदातों के दौरान यह लोग सोने-चांदी के जेवरात तथा नगदी चुराते थे. जेवरात न मिलने पर टीवी और गैस सिलेंडर ले भागते थे. पुलिस सभी आरोपियों से गहन पूछताछ कर रही है. साथ ही उनके अन्य साथियों के बारे में पता लगाया जा रहा है.

Related Posts: