मप्र स्थापना दिवस पर शुरु होगी योजना

भोपाल,30 अगस्त.प्रदेश के पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों का समय पर इलाज करवाने और मेडिकल रिएम्बर्समेंट की परेशानियों से मुक्ति दिलवाने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश पुलिस स्वास्थ्य सुरक्षा योजना लागू की जाएगी. आन्ध्रप्रदेश और कर्नाटक में संचालित इस तरह की योजना का अध्ययन करने के बाद यह योजना प्रस्तावित की गयी है.

गृह मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने योजना का प्रारूप शीघ्र बनाने को कहा है.उन्होंने कहा कि पुलिस बल की स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए बनायी गयी यह योजना उनका मनोबल बढ़ाने में सहायक होगी. गृह मंत्री ने कहा कि सभी प्रक्रियाएँ समय पर पूरी करें, जिससे एक नवम्बर से मध्यप्रदेश स्थापना दिवस पर योजना प्रारंभ की जा सके.

योजना की रूपरेखा
योजना के क्रियान्वयन के लिए एक ट्रस्ट गठित किया जाएगा. ट्रस्ट की प्रबंधक समिति के अध्यक्ष पुलिस महानिदेशक होंगे. समिति में एक उपाध्यक्ष, सचिव और 12 सदस्य होंगे.
अंशदान योजना में प्रत्येक पुलिस कर्मचारी को 50 रुपये प्रतिमाह अंशदान देना होगा. प्रदेश पुलिस में लगभग 80 हजार अधिकारी-कर्मचारी हैं. योजना में प्रत्येक सदस्य, उसकी पत्नी और बच्चों को एक वित्तीय वर्ष में 8 लाख रुपये तक के इलाज की पात्रता रहेगी. किसी को भी बीमारी होने पर उसका इलाज चिन्हित अस्पतालों में तुरंत शुरू किया जाएगा. शासन के नियमानुसार चिकित्सा प्रतिपूर्ति शासन द्वारा सीधे ट्रस्ट को की जाएगी.

चिन्हित हॉस्पिटल
योजना में इलाज के लिए प्रदेश के 30 और प्रदेश के बाहर के 31 हॉस्पिटल चिन्हित किए गए हैं. बैठक में अपर मुख्य सचिव गृह आई.एन.एस. दाणी, पुलिस महानिदेशक नंदन दुबे एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

Related Posts: