भोपाल, 31 अगस्त. प्रदेश कांग्रेसअध्यक्ष एवं सांसद केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया ने इंदौर के मनोज परमार गोली कांड के ”साइड इफेक्ट” के रूप में भारतीय जनता पार्टी और संघ परिवार के बीच इस सप्ताह से सड़क पर शुरू हुई तीखी लड़ाई का जिक्र करते हुए कहा है कि माना जाता है कि भारतीय जनता पार्टी और उसके पितृ संगठन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के पारस्परिक संबंधों और सत्ता-संगठन में महत्व को लेकर विवाद तथा आक्रोश तो हमेशा से रहा है.

किंतु उस पर अनुशासन की मोटी चादर बिछी रहने के कारण वह खुलकर सामने नहीं आया. लेकिन मनोज परमार गोलीकांड की जांच कर रहे एएसपी राकेशसिंह के तबादले को लेकर 28 अगस्त को संघ परिवार के स्वयं सेवकों ने जिस तरह भाजपा के इंदौर कार्यालय में घुसकर तोड़-फोड़ की और अपना जबर्दस्त आक्रोश जाहिर किया, उसने अनुशासन की चादर उघाड़कर दोनों संगठनों की दिखावटी एकता को बेनकाब कर दिया है.

Related Posts: