राज्य में अगले वर्ष 2013 में हर घर में पूरे 24 घंटों बिजली देने के लिए निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु महती प्रयास किये जा रहे हैं. मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया है कि इसके लिए 12 हजार करोड़ रुपयों का निवेश किया गया है. इस निरंतर आपूर्ति से राजस्व में भी वृद्धि होगी. विद्युत की बड़ी चोरी को रोकना होगा और उनसे कड़ाई से वसूली की जाए. पिछले 6 महीनों में बिजली चोरी के एक लाख 80 हजार मामले पकड़े गए इनमें 180 करोड़ रुपयों की वसूली होना है लेकिन अभी तक 95 करोड़ रुपये ही वसूल हुए हैं.

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को आश्वस्त किया कि इनसे वसूली करो इसके बीच में न मैं बोलूंगा, न ऊर्जा मंत्री और न कोई जनप्रतिनिधि. उन्होंने अधिकारियों को एक साल का समय दिया है कि फीडर संपरेशन का काम अगले साल दिसम्बर तक हो जाना चाहिए. अगले साल से वहां घरों को 24 घंटे बिजली देना है वहीं हर खेत को सिंचाई के लिए 8 घंटे बिजली देना है. विद्युत प्रणाली पर सुधार के लिए 12 हजार करोड़ रुपये के काम चल रहे हैं. लक्ष्य प्राप्ति के लिए 40 करोड़ रुपये के काम प्रतिदिन के हिसाब से होंगे. लक्ष्य की पूर्ति में 20 लाख नए उपभोक्ता नेटवर्क से जुड़ेंगे. विद्युत प्रणाली की सबसे बड़ी समस्या बिजली चोरी की है. यदि यह पूरे तौर पर रुक जाए तो विद्युत विभाग सरप्लस राजस्व का विभाग हो जायेगा. इतनी सख्ती भी की जानी चाहिए कि ऐसे लोगों को अनिवार्य रूप से जेल की सजा दी जाए. इसमें सबसे ज्यादा दोषी ब्लक कंज्यूमर्स होते हैं. विभाग में आर एण्ड डी (शोध व विकास) खोला जाए जो विद्युत चोरी की समस्या पर कोई कारगर उपाय तलाश सके.

संस्थापक : स्व. रामगोपाल माहेश्वरी
प्रधान संपादक : श्री प्रफुल्ल माहेश्वरी

Related Posts: