• घर-घर होगा कन्या पूजन, झांकियों पर हवन-भंडारे

भोपाल, 3 अक्टूबर. नवरात्र पर्व की सप्तमी तिथि को पूरा शहर माता की भक्ति में लीन नजर आया. मंगलवार को महाअष्टमी पूजन के साथ ही घर-घर कन्या भोज, झांकियों में हवन पूर्णाहूति और भंडारों का आयोजन शुरू हो जाएगा. शहर की मनमोहक झांकियों पर देर रात तक भक्तों का जनसैलाब उमडऩे का सिलसिला जारी है. अधिकांश झांकियों पर लंबी लंबी कतारें लगी हैं. महाअष्टमी को शक्ति को अपनी भक्ति से मनाने और भजन पूजन के कार्यक्रमों की धूम रहेगी.

शक्ति की भक्ति में शहरवासी लीन हो चुके हैं. शहर के मंदिरों और माता के दरबार में प्रतिदिन हवन का आयोजन किया जा रहा है, व्रत-उपवास और पूजन कर भक्तजन माता की आराधना कर रहे हैं. पर्व की सप्तमी तिथि को सोमवार को कई झांकी स्थलों पर देवी जागरण के कार्यक्रम हुए. श्री राम हनुमान वाटिका करोंद पलासी में भक्तों ने रात्रि जागरण का बुंदेलखंडी भजन गाकर माता दक्षिणेश्वरी काली की आराधना की.

विधायक विश्राम गृह स्थित कात्यायनी शक्तिपीठ में सप्तमी की रात्रि में हवन का आयोजन किया गया, यहां नित्य हवन किया जा रहा है. बरखेड़ा विजय मार्केट में देर रात तक श्रद्धालुओं की कतारें लगी रही. मंगलवार को भी दर्शनार्थियों के बड़ी संख्या में पहुंचने की उम्मीद है, जिससे समिति ने चाक चौबंद व्यवस्था कर रखी है. कोटरा स्थित मां पाताल भैरवी झांकी में देर रात तक श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए भीड उमड़ रही है. पुराने शहर की चलित झाकियों में विराजी माता दुर्गा और अन्य द्श्य लोगों का बरबस ही मन मोह रहे हैं. अशोका गार्डन रोड स्थित झांकियों पर नयनाभिराम नजारों को देखने लोगों की एसी भीड़ उमड़ रही है कि शाम को कई बार मुख्य मार्ग पर जाम के हालात बन जाते हैं. यहीं स्थित जिंसी चौराहा की भी है. यहाँ भी झांकियों पर देर रात तक लोगों की भीड़ उमड़ रही हैं.

तुलसी नगर में सोमवार को रात बजे से मां भगवती का विशाल जागरण आयोजित किया गया. माता के मधुर भजनों की तान पर  देर रात तक भक्तों के झूमने और नाचने का क्रम जारी रहा. शिवनगर कालोनी करोंद में सोमवार को शाम सात बजे से गायक रवि खरे के भजन का कार्यक्रम हुआ. कार्यक्रम देर रात तक चला, जिसमें भक्तों की खासी भीड़ रही. बिट्टन मार्केट मे बने पदमनाभ स्वामी मंदिर का खजाना देखने के लिए श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ रहा है. श्री मां वैष्णौ दुर्गा उत्सव समिति द्वारा बनाई गई 80 फीट झांकी में 16 फीट उंची प्रतिमा विराजमान है.

पदमनाभ स्वामी मंदिर केरल की तर्ज पर झांकी का निर्माण बंगाली कलाकारों द्वारा किया गया है, जिसमें झांकी में प्रवेश के साथ पहले कक्ष में भगवान विष्णु शैय्या पर लेटे हुए दिखाए गए हैं, दूसरे कक्ष में सोने चांदी के सिक्के का खजाना जो की बेहिसाब मात्रा में है, इसके अलावा तीसरे कक्ष में मोती व अन्य रत्न हैं, चौथे कक्ष में सोने के स्वरूप के हार कंगन व अन्य जेवरात हैं. पांचवे कक्ष में अन्य बहूमूल्य रत्नों को बताया गया है. छठवें व अंतिम खजाने का बंद कक्ष दिखाया गया हैं, जिसमें सुप्रीम कोर्ट का हवाला भी दर्शाया गया है.

कालीबाड़ी में उत्सव- बंगाली समाज द्वारा सोमवार को मां काली की विशेष पूजन अर्चन किया गया. यहां रविवार को माता काली की घटस्थापना की गई है. मंगलवार व बुधवार को महाअष्टïमी और महानवमीं पूजा होगी. दशहरे पर महादशमी पूजन के साथ पर्व का समापन होगा.  न्यू मार्केट में बना शेष नाग मंदिर भक्तों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है.

यहां बनी झांकी अमरनाथ यात्रा का साक्षात दर्शन करा रही है.  झांकी में अरमनाथ यात्रा मार्ग में पडऩे वाले शेषनाग मंदिर के दर्शन हो रहे हैं. यहां 40 फीट ऊंचा शिवलिंग भी बनाया गया है. शिवलिंग पर लगातार गिर रही दूध की धारा भक्तों को आश्चर्यचकित कर रही है. यहां झांकी परिसर में बच्चों के मनोरंजन के लिए झूले आदि और खानपान के स्टाल पर भी बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ रही है. 55 फीट ऊंची इस झांकी में माता भवानी की 16 फीट उंची प्रतिमा स्थापित की गई है.

Related Posts: