भोपाल, 11 नवम्बर. गृह मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने आज यहां किशोर न्याय अधिनियम विषयक सेमीनार का शुभारंभ करते हुए कहा कि बाल अपराधों को रोकने के लिए बच्चों और युवाओं की मानसिकता बदलना होगा.

इसके लिये जरूरी है कि अधिनियम के प्रावधानों का जमीनी स्तर पर मानवीय सोच के साथ क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाए. गृह मंत्री ने अधिनियम के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये संबंधित विभागों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के बीच हर स्तर पर समन्वय की आवश्यता प्रतिपादित करते हुए कहा कि निचले स्तर तक समन्वय समितियों का गठन किया जाना चाहिए.  गुप्ता ने सेमीनार में भाग ले रहे प्रदेश के स्वयं सेवी एवं सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों और महिला बाल विकास तथा पुलिस विभाग के मैदानी अधिकारियों को कहा कि बच्चों और युवाओं को अपराध की प्रवृत्ति से बचाने के लिये हर सम्भव प्रयास जरूरी है. सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन इस उद्देश्य को पूरा करने में सहायक हो सकते है. बाल अपराधों के लिए संयुक्त परिवारों की टूटन को जिम्मेदार ठहराते हुए गुप्ता ने कहा कि सामाजिक और प्रशासनिक व्यवस्था के अंतर्गत उन कमियों और कारणों को अवश्य खोजा जाना चाहिये जिनके कारण बच्चे अपराध की ओर जाते है. इन कमियों को उजागर करके ही अधिनियम का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जा सकता है. गृहमंत्री ने थाना स्तर तक के पुलिस कर्मियों को इस अधिनियम के प्रावधानों के बारे में बारीकी से जानकारी देने की आवश्यकता बताई.  पुलिस महानिदेशक एसके राउत ने इस अवसर पर बताया कि प्रदेश के समस्त पुलिस कर्मियों को अधिनियम के प्रवाधानों का संवेदनशील रहकर प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के निर्देश दिये.

समय-समय पर इन निर्देशों के पालन की समीक्षा भी की जाती है. राउत ने बताय कि पुलिस कर्मियों को यह भी निर्देशित किया गया है कि अधिनियम के क्रियान्वयन हेतु शासन के सभी संबंधित विभागों और समाज के सभी संबंधित लोगों से जीवन्त समन्वय हमेशा कायम रखें. सेमीनार के शुभारंभ समारोह की अध्यक्षता करते हुए यूनीसेफ के प्रदेश प्रभारी मनीष माथुर ने समाज में बच्चों के अधिकारों और हितों के लिये अधिनियम को सख्ती से क्रियान्वयन करने पर बल दिया. अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह विभाग अशोक दास ने स्वस्थ समाज के निर्माण में अधिनियम की उपयोगिता की जानकारी दी. बाल कल्याण विभाग के संचालक अनुपम राजन ने अधिनियम के क्रियान्वयन के लिये किए जा रहे प्रयासों के बारे में विस्तार से बताया.

Related Posts: