कृषि विज्ञान मेले का समापन

भोपाल,19 जून,खेती को और अधिक लाभकारी बनाने के लिए किसानों को चाहिए कि वे खाद्य प्रसंस्करण पर ध्यान दें. गेहूँ को आटे और दलहन को दाल के रूप में प्रसंस्कृत कर ज्यादा लाभ कमाया जा सकता है.

यह उद्गार किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री डॉ0 रामकृष्ण कुसमरिया ने विस्तार सुधार कार्यक्रम ”आत्मा ” के तहत भोपाल में आयोजित तीन दिवसीय जिलास्तरीय कृषि विज्ञान मेले के समापन पर व्यक्त किए. उन्होंने किसानों से कहा कि वे अंधाधुन्ध उर्वरक एवं कीटनाशक का उपयोग नहीं करें बल्कि जमीन की मांग और कृषि विज्ञानियों के बताए अनुसार उसका उपयोग करें. उन्होंने जैविक खेती पर जोर देते हुये पुरातन कृषि व्यवस्था की ओर ध्यान देने की जरूरत बताई.

कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व कृषि संचालक एल.पी.पटेल ने की. मेले में कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, मत्स्य एवं अन्य विभागों की प्रदर्शनी के स्टॉल लगाये गये थे. तीन दिवसीय इस कार्यशाला में आये सभी किसानों ने प्रदर्शनी का अवलोकन किया. यह आयोजन कलेक्टर निकुंज कुमार श्रीवास्तव के निर्देश पर किया गया. जिसमें कृषि उप संचालक के.पी.पाण्डे और श्रीमती रश्मि वर्गीस ने सराहनीय प्रयास किए.

Related Posts: