ग्रामीण सड़कों का निर्माण समय पर नहीं होने से 16 अनुबंध निरस्त

भोपाल,19 अप्रैल,ग्रामीण विकास कार्यों में गुणवत्ता की कमी तथा समय-सीमा में कार्य नहीं करने के मामलों में सख्त कार्रवाई करते हुए राज्य शासन ने ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के तीन इंजीनियर निलम्बित किये हैं. इसके साथ ही समय-सीमा में ग्रामीण सड़कों का निर्माण नहीं होने पर 16 अनुबंध निरस्त किए हैं.

प्रदेश में, मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना, कुशाभाऊ ठाकरे पंचायत भवन, बुंदेलखण्ड पैकेज तथा अन्य ग्रामीण विकास कार्यों की गुणवत्ता और समय-सीमा में उन्हें पूरा करने के बारे में कड़ी निगरानी रखी जा रही है. इस मक़सद से विभागीय इंजीनियरों को भी गुणवत्तापूर्ण कार्य के लिये जरूरी दिशा-निर्देश दिये गये हैं. साथ ही उन्हें प्रशिक्षित भी किया गया है. ग्रामीण विकास विभाग द्वारा मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना में निर्मित करवाई जा रही ग्रेवल सड़कों तथा पुल-पुलियाओं को निर्धारित समय-सीमा में गुणवत्ता के साथ बनाये जाने के विशेष निर्देश दिये गये हैं. ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के 3 इंजीनियरों को ऐसे ही मामलों में लापरवाही बरतने और गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखने की वजह से निलम्बित किया गया है.

इनमें आर.जी. शर्मा, अनुविभागीय अधिकारी, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, उप संभाग, बीना, जिला सागर को विभागीय जाँच में दोषी पाकर निलम्बित किया गया है. इनकी 2 वेतन वृद्धि रोकने के आदेश दिये गये हैं. इसी तरह कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा संभाग, पन्ना जी.पी. पटेल और उप यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा संभाग, टीकमगढ़, ए.के. शर्मा को निर्माण कार्यों की गुणवत्ता में कमी की वजह से निलम्बित कर दिया गया है. समय-सीमा में ग्रेवल सड़कों का निर्माण पूरा नहीं करने के कारण संबंधित ठेकेदारों के विरुद्ध भी अनुबंध की शर्तों के अनुरूप सख्त कार्यवाही की गई है. ऐसे मामलों में राजगढ़ जिले में 7 पैकेज, सतना जिले में 2 पैकेज और जबलपुर जिले में 7 पैकेज निरस्त कर दिये गये हैं. अब यह सभी निर्माण कार्य संबंधित ठेकेदार के जोखिम एवं व्यय पर नवीन क्रियान्वयन एजेंसियों के माध्यम से पूरे करवाये जाने की कार्यवाही की जा रही है.

Related Posts: