नई दिल्ली, 7 फरवरी.  उत्तर प्रदेश में मिशन राहुल के लिए कांग्रेस के प्रबंधक राष्टमंडल खेल कराने वाली टीम कलमाड़ी की भी सेवाएं ले रहे हैं. उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के वॉर रूम की कमान राष्ट्रमंडल खेल आयोजन समिति के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी के करीबी और उनके शहर पुणे के रहने वाले भाइयों तहसीन और शहजाद पूनावाला के हाथ में हैं. राष्ट्रमंडल खेलों की आयोजन सलाहकार समिति में तहसीन पूनावाला समेत 19 लोगों की नियुक्ति में गड़बडिय़ों की जांच सीबीआई कर रही है.

लेकिन ये दोनों भाई फिलहाल यूपी में कांग्रेस की चुनावी योजना में बेहद अहम भूमिका निभा रहे हैं. कांग्रेस के महासचिव व उत्तर प्रदेश के प्रभारी महासचिव दिग्विजय सिंह को रिपोर्ट करने वाले दोनों भाई न सिर्फ बड़े नेताओं की सभाओं और उनके आने-जाने की व्यवस्था देखते हैं. इसके अलावा पार्टी प्रवक्ताओं और नेताओं को जनता और मीडिया के बीच बोलने का प्रशिक्षण भी देते हैं. लखनऊ में माल एवेन्यू के नेहरू भवन स्थित कांग्रेस दफ्तर में पूनावाला बंधु पार्टी के चुनावी अभियान के प्रमुख रणनीतिकार हैं. मायावती सरकार के भ्रष्टाचार के प्रमुख मुद्दा बना रहे राहुल गाधी के चुनावी अभियान में कलमाड़ी के करीबी दोनों भाइयों की कांग्रेस के दफ्तर में हनक से पार्टी के कई नेता खासे असहज भी हैं, लेकिन वे कुछ बोलने का साहस नहीं जुटा पा रहे. चूंकि नफीस अंग्रेजी में बात करने वाले पूनावाला बंधु सीधे काग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह को ही रिपोर्ट करते हैं इसलिए और भी कोई कुछ बोलने की स्थिति में नहीं है. दिग्विजय सिंह ने माना कि उत्तार प्रदेश चुनाव में तहसीन पूनावाला को उन्होंने खुद जिम्मेदारी सौंपी है. ध्यान रहे कि दिग्विजय सिंह ने जुलाई, 2011 में बयान दिया था कि मेरा भाई कलमाड़ी निर्दोष है .

और उसे बेवजह जेल में यातना सहनी पड़ रही है. काग्रेस महासचिव ने जो कहा था, वैसा ही माना और सोशल साइट पर कलमाड़ी का समर्थन करने वाले तहसीन पूनावाला को उत्तार प्रदेश में राहुल के मिशन से जोड़ दिया. तहसीन  ने कहा कि आयोजन समिति के जिन लोगों की सीबीआई ने सूची बनाई है उनमें ज्यादातर पुणे के लोग थे. मगर चूंकि मैंने बतौर स्वयंसेवक अपनी सेवाएं दी थी और पैसा नहीं लिया इसलिए मेरा नाम नहीं है. यह पूछने पर कि कांग्रेस में वह किसे रिपोर्ट कर रहे हैं और उनकी भूमिका क्या है? इस पर दिग्विजय सिंह से उलट पूनावाला का जवाब था कि मैं सिर्फ काग्रेस की समीक्षा कर रहा हूं. किसी को रिपोर्टिग वाली बात पर वह मौन साध गए.

Related Posts: