बादलों की ओट में छिपा सूर्य, दिन भर ठिठुरे लोग

अनेक हिस्सों में ओले भी गिरे सागर में तेज बारिश से जनजीवन प्रभावित

भोपाल 1 जनवरी. नससे. देश के दक्षिणी हिस्सें में उठे समुद्री तुफान थाने के असर से मघ्यप्रदेश के मौसम में  अचानक तब्दीली आयी और राज्य के अनेक हिस्सों में मघ्यम से तेज बारिश का क्रम वर्ष के अंतिम दिन से शुरूहुआ जो आज भी जारी रहा.इस दौरान कई हिस्सों में ओले भी गिरे. तेज बारिश से सागर में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है वहां कई बस्तियों मे पानी भर गया और तीन जनवरी से शुरू होने वाला खेल उत्सव रद्द कर दिया गया है.

मावठे की बारिश फसलों के लिए काफी लाभदायक होने से किसानों को चेहरे खिल गये है  लेकिन ओलावृष्टि से चिंता भी सताने लगी है.इधर मौसम विभाग ने प्रदेश में वर्षा का क्रम जारी रहने का अनुमान जताते हुयी चेतावनी दी है कि उत्तर पूर्वी क्षेत्रों में कही कही बारिश के से साथ ओले गिरने की भी संभावना है.भोपाल में  बादल छाये रहे और दिन भर मौसम में ठंडा रहा रात्रि में ठंडी हवायें चल रही थी जिससे काफी सर्दी महसूस की गयी. इंदौर  ग्वालियर और जबलपुर में दिन का तापमान 16 से 23 डिग्री सेल्सियस के आसपास दर्ज किया गया जो कि सामान्य से 4 से 6 डिग्री कम है जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से ऊपर रहा. मौसम विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि  इंदौर संभाग को छोडकर प्रदेश के सभी संभागों में वर्षा दर्ज की गयी है.समुद्री तूफान थाना के गुजर जाने के बाद वहां से आ रही नमी के कारण मौसम में बदलाव आया है.

नही दिखा 2012 का सूर्योदय

इंदौर/भोपाल, 1 जनवरी. प्रदेश के कई हिस्सों में नए वर्ष का आगाज बारिश और जबरदस्त ठंड के साथ हुआ. अनेक जगह नववर्ष 2012 का सूर्योदय नहीं देख पाये लोग.

रविवार होने के बावजूद लोग घरों से बाहर निकलकर मौज-मस्ती करने के बजाए घरों में रजाइयों में घुसे रहे. लोगों ने नए वर्ष का स्वागत धूमधाम से किया लेकिन प्रदेश के कई हिस्सों में रविवार को रुक-रुककर हो रही बारिश की वजह से सर्दी का असर बढ़ गया है. देश के कई हिस्सों में चक्रवाती तूफान ठाणे का भी असर देखा जा रहा है. यह हाल मालवा अंचल के शाजापुर, शुजालपुर, उज्जैन, नीमच, मंदसौर, इंदौर, रतलाम सहित अनेक नगरों में रहा. रविवार सुबह से घने बादल छाए रहे और रुक-रुककर हल्की बारिश होती रही. फुहारें पडऩे से लोग घरों में दुबके रहे. बूंदाबांदी का सिलसिला शनिवार देर रात से शुरू हो गया था. मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि कम दबाव का क्षेत्र बनने और पश्चिमी विक्षोभ के कारण मौसम में अचानक बदलाव आया है.

वहीं ठाणे चक्रवात का असर मध्य प्रदेश पर भी हुआ है और इसकी वजह से नव वर्ष की पूर्व संध्या पर हुई बारिश और सर्द हवाओं ने ठिठुरन बढ़ा दी है.अचानक आए बदलाव के कारण रविवार को भी अधिकतर इलाकों में बादल छाए हुए हैं. मौसम विभाग के क्षेत्रीय कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार ठाणे चक्रवात के कारण राज्य के अधिकतर इलाकों मे बारिश हुई है. यह क्रम आने वाले दो-तीन दिन तक जारी रह सकता है. बारिश से राज्य के तापमान में गिरावट हुई है और ठंड बढ़ गई है.

Related Posts: