नई दिल्ली/हरिद्वार, 25 सितंबर. बाबा रामदेव के ट्रस्ट की ओर से बनाए जाने वाले कई खाद्य सामग्री के सैंपल जांच में फेल पाए गए। उत्तराखंड खाद्य विभाग ने इन सैंपलों की जांच की।

विभागीय सूत्रों के अनुसार, नमक, मसाले, जैम और तेल के सैंपल बाबा रामदेव के हरिद्वार स्थित दिव्य योग आश्रम से जांच के लिए लिए गए थे। जोकि जांच में फेल हो गए और निम्न गुणवत्ता के पाए गए। इसके अलावा जांच में यह भी सामने आया कि कुछ सामग्रियों का निर्माण अन्यत्र किया गया है, लेकिन उसका विपणन आश्रम के ब्रांड के तहत किया जा रहा है।
खाद्य विभाग ने बीते 16 अगस्त को रामदेव के आश्रम में छापे के दौरान इन सैंपलों को एकत्रित किया था। इस छापे की रामदेव ने कड़ी आलोचना की थी और कहा था कि केंद्र के इशारे पर यह कार्रवाई की गई।

रामदेव ने कहा कि यह ऊपरी वर्ग और आम आदमी के बीच युद्ध सरीखा है। हम लोग आम आदमी हैं और हमारी लड़ाई अभी शुरू हुई है। केंद्र के इशारे में जानबूझकर इन छापों को अंजाम दिया जा रहा है। रामदेव ने पत्रकारों से सवालिया लहजे में कहा कि क्या कभी सरकार ने विदेशी कंपनियों पर छापे मारने का साहस जुटाया। वह सिर्फ मुझे निशाना बना रही है। रामदेव ने कहा कि आम ट्रक भड़कर सैंपल को ले सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, रामदेव के ट्रस्ट के खिलाफ कानूनी धाराओं के तहत कार्रवाई की जा सकती है और 10-15 लाख तक का जुर्माना लगाया जा सकता है। मीडिया में सैंपलों के फेल होने के मामले में खुलासा होने के बाद खाद्य विभाग के अधिकारियों ने ने चुप्पी साध ली है। वहीं, दिव्य योग ट्रस्ट ने भी इस रिपोर्ट पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है।

Related Posts: