• 2 जी टेलीकॉम घोटाला

नई दिल्ली, 23 नवंबर. सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को 2जी आवंटन घोटाले के आरोपी सभी पांच कॉरपोरेट दिग्गजों को जमानत दे दी है। ये सभी आरोपी तिहाड़ जेल में बंद थे। जमानत में शर्त रखी गई है कि हर आरोपी को 5-5 लाख रुपए के 2 मुचलके भरने होंगे।

गौरतलब है कि 2जी घोटाले में यह पहली जमानत है। इससे अब इस मामले में बंद पूर्व केंद्रीय मंत्री ए.राजा और डीएमके सांसद कनिमोझी की भी जमानत की उम्मीद जग गई है। ये सभी पिछले करीब छह महीने से जेल में बंद हैं। न्यायाधीश जी.एस. सिंघवी तथा न्यायाधीश एच.एल. दत्तु की पीठ ने अलग-अलग कंपनियों के पांच शीर्ष अधिकारियों को छोडऩे का आदेश दिया। इनमें यूनिटेक लिमिटेड के प्रबंध निदेशक संजय चंद्रा, स्वान टेलीकाम के निदेशक विनोद गोयनका, रिलायंस अनिल धीरुभाई अंबानी समूह के अधिकारी हरी नायर, गौतम दोषी तथा सुरेन्द्र पिपारा शामिल हैं। शीर्ष अदालत ने जमानत शर्त के तहत इन सभी को पांच-पांच लाख रुपए के दो मुचलके मामले की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश के पास जमा करने को कहा। न्यायाधीश दत्तु ने फैसला पढ़कर सुनाया। दिल्ली हाईकोर्ट तथा निचली अदालत के आदेश को आरोपियों ने शीर्ष अदालत में चुनौती दी थी। दोनों अदालतों ने इन अधिकारियों की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। सीबीआई ने उनकी जमानत याचिका का विरोध किया था और कहा था कि उन्हें राहत के लिए सुनवाई अदालत के पास जानी चाहिए। आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता तथा भ्रष्टाचार निरोधक कानून की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

जमानत के लिए दलील

सुनवाई के दौरान आरोपियों ने दलील दी कि मामले में आरोप तय किये जा चुके हैं और ऐसे में साक्ष्य के साथ छेड़छाड़ की कोई संभावना है। अत: उन्हें जमानत दी जानी चाहिए। कनिमोई तथा चार अन्य की जमानत याचिका पर दिल्ली उच्च न्यायालय में सुनवाई एक दिसंबर को होने वाली है। यह पहला मौका है जब 2जी घोटाला मामले में किसी आरोपी को जमानत मिली है। मामले में अन्य आरोपियों में ए.राजा के निजी सचिव आर.के. चंदोलिया तथा पूर्व दूरसंचार सचिव सिद्धार्थ बेहुरा शामिल हैं। जिन अन्य लोगों को मामले में गिरफ्तार किया गया है, उनमें स्वान टेलीकाम के प्रवर्तक शाहिद उस्मान बलवा, उनके रिश्तेदार आसिफ बलवा तथा उनके सहयोगी राजीव अग्रवाल के अलावा द्रमुक के स्वामित्व वाली कलिंगनार टीवी के प्रबंध निदेशक शरद कुमार तथा मुंबई के फिल्म निर्माता करीम मोरानी शामिल हैं। 2जी मामले में सीबीआई के आरोप पत्र में तीन दूरसंचार कंपनियों रिलायंस टेलीकाम लिमिटेड, स्वान टेलीकाम तथा यूनिटेक (तमिलनाडु) वायरलेस लिमिटेड के नाम आरोपियों की सूची में शामिल हैं। सीबीआई ने घोटाले के सिलसिले में 14 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया है। राजा को उनके निजी सचिव चंदोलिया तथा पूर्व दूरसंचार सचिव बेहुरा के साथ सबसे पहले दो फरवरी को गिरफ्तार किया गया था।

Related Posts: