• शिकायत के बाद हुई कार्रवाई

रीवा, 23 नवम्बर. परिवहन चेक पोस्ट हनुमना में चल रही अवैध वसूली को लेकर की गई शिकायत की पुष्टि के बाद आज सुबह आठ बजे लोकायुक्त पुलिस की टीम ने आकस्मिक छापामारी कार्यवाही को अंजाम दिया.

कार्यवाही के दौरान अवैध वसूली करते एक निजी व्यक्ति (कटर) एवं आरक्षक को रंगे हाथ पकड़ा गया. भारी मात्रा में टोकन एवं कागजात जब्त किये गये है. खबर लिखे जाने तक कार्यवाही जारी रही. अवैध वसूली सिद्ध होना पाया गया है. भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 के तहत प्रकरण दर्ज किया जायेगा. गौरतलब है कि हनुमना चेक पोस्ट में ट्रकों से 1500 से लेकर 2000 तक की अवैध वसूली की जाती थी. जिसको लेकर ट्रक आनर्स मिर्जापुर उत्तर प्रदेश ने अक्टूबर माह के अंतिम सप्ताह में शिकायत लोकायुक्त में की गई थी. शिकायत के बाद उसकी पुष्टि की गई. पुष्टि के बाद योजनाबद्ध तरीके से लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक मिथिलेश शुक्ला के नेतृत्व में आज सुबह आठ बजे 15 सदस्यीय चेक पोस्ट हनुमना पहुंची. बताया गया कि तीन गाडिय़ों में सवार लोकायुक्त पुलिस की टीम हनुमना चेक पोस्ट के आगे पहुंची और उसके बाद चारों तरफ से घेराबंदी कर दबिश दी गई. जब टीम पहुंची तो स्थानीय मीडिया कर्मियों से लोकायुक्त की झड़प भी हुई.

जानकारी के मुताबिक जैसे ही टीम पहुंची तो यहां अफरा-तफरी मच गई. आरक्षक सतेन्द्र सिंह एवं एक निजी व्यक्ति (कटर) शिवशंकर सिंह को रंगे हाथों अवैध वसूली करते पकड़ा गया. जिनसे भारी मात्रा में टोकन जब्त किये गये. कार्यवाही के दौरान काउंटर सीज कर दिया गया और कई अहम दस्तावेज जब्त किये गये. बताया गया कि 22 एवं 23 नवम्बर की 53 हजार 650 रूपये की वैध वसूली हुई. जिसकी रसीद काटी गई. जबकि कार्यवाही के दौरान अवैध रूप से 5390 रूपये की राशि पकड़ी गयी. कार्यवाही के दौरान कई अहम दस्तावेजों की जांच पड़ताल की गई. कितने वाहन आते और जाते है, कितनी की वसूली होती है, रसीदों एवं कैश बुक की जांच की जा रही है. कार्यवाही का नेतृत्व लोकायुक्त एसपी मिथिलेश शुक्ला, उप पुलिस अधीक्षक रामलखन सिंह भदौरिया, निरीक्षक जबलपुर शैलेन्द्र गोविल, आस्कर विन्डो, आशुतोष पाण्डेय, अशोक पाण्डेय, अरविंद श्रीवास्तव, विश्वम्भर मिश्रा, एस.के. द्विवेदी, सहित कार्यवाही में हनुमना सीईओ मोगाराम मेहरा, तहसीलदार ए.के. झा शामिल रहे. कार्यवाही के दौरान अवैध वसूली सिद्ध होना पाया गया. लेकिन अभी प्रकरण दर्ज नहीं किया गया है. कार्यवाही जारी रही. लोकायुक्त एसपी मिथिलेश शुक्ल ने बताया कि 1 लाख 27 हजार कैश मिला है. जिसमें कुछ वैध व और कुछ अवैध राशि है. कार्यवाही चल रही है कार्यवाही पूरी होने के बाद ही स्पष्ट रूप से खुलासा होगा. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 के तहत प्रकरण दर्ज किया जायेगा.

Related Posts: