युवा नेताओं को आगे लाएं-युवक कांगे्रस सम्मेलन में चिदंबरम

नई दिल्ली, 28 नवंबर. केंद्रीय गृह मंत्री पी. चिदंबरम ने सोमवार को कहा कि देश को अति वामपंथ से तो खतरा है ही, लेकिन उससे भी ज्यादा खतरा अति दक्षिणपंथ से है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी जाति आधारित राजनीति करने वालों और कट्टरपंथी ताकतों से लड़ेगी।

चिदंबरम ने आज से यहां शुरू हुए युवक कांग्रेस के दो दिवसीय सम्मेलन ‘बुनियाद’ में कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी की पार्टी में बड़ी भूमिका होने के जाहिरा संदर्भ में कहा कि मेरा मानना है कि एक समय के बाद बुजुर्ग नेताओं को युवा नेताओं के लिए अपनी जगह छोड़ देनी चाहिए और उन्हें अपनी जगह देनी चाहिए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि 40 वर्ष पहले उन्होंने अपना पहला भाषण एक युवा नेता के तौर पर दिया था, जिसके आयोजकों में प्रियरंजन दासमुंशी शामिल थे। उन्होंने महसूस किया था कि पार्टी की बागडोर युवा हाथों में होनी चाहिए। आज एक बार फिर वह यही महसूस करते हैं कि बुजुर्ग नेताओं को युवा नेताओं को जगह देनी चाहिए। गृह मंत्री ने किसी संगठन या समूह का नाम लिए बिना कहा कि देश को खतरा अति वामपंथ से है और उससे भी ज्यादा अति दक्षिणपंथ से है।केवल कांग्रेस पार्टी ही मध्यमार्ग का अनुसरण करती है। चिदंबरम ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का मानना है कि राजनीतिक दलों में किसी भी धर्म या जाति विशेष का प्रभुत्व नहीं होना चाहिये और सभी को समान अवसर मिलने चाहिए। पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों का जिक्र करते हुए चिदंबरम ने कहा कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी, जिसमें पार्टी जाति आधारित राजनीति करने वालों और कट्टरपंथी ताकतों से लड़ेगी। चुनौतियां कठिन हैं, लेकिन हमें विश्वास है कि आखिरकार जीत कांग्रेस और राहुल के नेतृत्व की होगी।

युवक कांग्रेस में 24 प्रतिशत महिला सदस्य

भारतीय युवक कांग्रेस (आईवाईसी) की 14 राज्य इकाइयों में 37 लाख सदस्य हैं। सदस्यों में 24 प्रतिशत महिलाएं हैं। कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी लगातार महिलाओं से युवक कांग्रस में शामिल होने की अपील करते रहे हैं लेकिन इसके बाद भी अब तक महिला सदस्यों की संख्या कम बनी हुई है। युवक कांग्रेस का  दो दिवसीय सम्मेलन आज शुरु हुआ. सम्मेलन में युवक कांग्रेस की 35 राज्य इकाइयों में से 14 राज्य इकाइयों के 37 लाख सदस्यों के आंकड़े पेश किए गए। दमन व दीव में 6,294 सदस्यों में केवल 84 महिलाएं हैं। पुड्डुचेरी में 67,848 सदस्यों में से 26,444 महिलाएं हैं। आईवाईसी के एक नेता ने बताया कि सभी राज्यों में 1.1 करोड़ सदस्य हैं। युवक कांग्रेस की राज्य इकाई आधिकारिक क्षेत्राधिकार से अलग होती हैं। सांगठनिक चुनावों के लिए युवक कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश को चार राज्य इकाइयों में बांटा है. जबकि महाराष्ट्र में मुम्बई शहर एक अलग राज्य इकाई है।

अन्य राज्यों में हरियाणा युवक कांग्रेस इकाई में केवल 11 प्रतिशत महिलाएं हैं, गुजरात में 12 प्रतिशत, बिहार में 22 प्रतिशत महिलाएं हैं। झारखण्ड में युवक कांग्रेस के 240,100 सदस्यों में से एक तिहाई महिलाएं हैं। मुम्बई इकाई में 14 प्रतिशत महिलाएं हैं। वहां 217,040 में 30,346 महिला सदस्य हैं। तमिलनाडु इकाई में 12,92,168 में से 423,543 महिलाएं मतलब 33 प्रतिशत महिलाएं हैं।

Related Posts: