नई दिल्ली, 15 जनवरी. योग गुरु बाबा रामदेव पर स्याही फेंके जाने की घटना को कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने आरएसएस की सुनियोजित साजिश करार दिया.

दिग्विजय ने कहा कि उन्होंने रामदेव पर स्याही फेंकने वाले व्यक्ति की तस्वीर देखी है और यह घटना सुनियोजित साजिश प्रतीत होती है. उन्होंने कहा कि स्याही फेंकने वाला कामरान सिद्दीकी एक गैर सरकार संगठन (एनजीओ) चलाता है और वह कांग्रेस विरोधी है. दिग्विजय ने कहा कि संघ के लोग बाबा रामदेव का किसी वस्तु की तरह प्रचार कर रहे हैं. बाबा के कारनमों का हालांकि खुलासा हो चुका है. इस कारण उन्होंने बाबा को हीरो बनाने के लिए ऐसा नाटक रचा है. उन्होंने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए कि सिद्दीकी के एनजीओ को राजग (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) शासन के दौरान विभिन्न सरकारी विभागों से कितना धन दिया गया. यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस हमले को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और सिद्दीकी के बीच सांठगांठ के रूप में देखते हैं कांग्रेस नेता ने कहा बिल्कुल. इससे पहले उन्होंने कहा कि यह हिंदुओं और मुस्लिमों के बीच तनाव पैदा करने की एक साजिश लगती है. दिग्विजय ने कहा कि जांच होनी चाहिए कि ऐसा करने वाला व्यक्ति कौन है. मैं हमेशा से कहता हूं कि ऐसा कृत्य कट्टरपंथी हिंदू और कट्टरपंथी मुस्लिम मिलकर करते हैं.

दिग्विजय सिंह ने कहा कि हम ऐसी हरकत की निंदा करते हैं. ऐसा नहीं होना चाहिए था. बाबा रामदेव पर शनिवार को उस वक्त स्याही फेंकी गई, जब दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में वह पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे. स्याही फेंकने वाले व्यक्ति की पहचान कामरान सिद्दीकी के रूप में की गई है. रामदेव के गुस्साए समर्थकों ने उस व्यक्ति की जमकर पिटाई की. कथित तौर पर सिद्दीकी बाबा रामदेव से इसलिए नाराज था कि उन्होंने बटला हाउस मुठभेड़ को सच्ची मुठभेड़ बताया था.

Related Posts: