बेंगलूर, 3 सितंबर. विश्व रिकार्र्डों के बेताज बादशाह सचिन तेंदुलकर का न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज में निराशाजनक प्रदर्शन बरकरार रहा और वह दूसरे टेस्ट दूसरी पारी में भी 27 रन बनाकर टिम साउदी की गेंद पर बोल्ड हो गये.

सचिन के शानदार करिअर में यह पहला मौका है जब वह किसी घरेलू टेस्ट की दोनों पारियों में बोल्ड हुए हैं. ओवरआल उनके करिअर में दोनों पारियों में बोल्ड आउट होने का यह चौथा मौका है. मास्टर ब्लास्टर ने विश्व रिकार्ड 190 टेस्टोंं में से 84 घरेलू जमीन पर खेले हैं और पहली बार वह किसी घरेलू टेस्ट में दोनों पारियों में बोल्ड आउट हुए हैं. सचिन इस सीरीज में तीसरी बार कीवि गेंदबाजों की लाइनलेंग्थ नहीं समझ सके और बोल्ड हो गये. इस टेस्ट की पहली पारी में सचिन को डग ब्रेसवेल ने बोल्ड किया था और दूसरी पारी में टिम साउदी ने उन्हें अपना शिकार बना लिया.

हैदराबाद में पहले टेस्ट में भारत की एकमात्र पारी में सचिन को युवा गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने बोल्ड किया था. सचिन ने इस सीरीज की इन तीन पारियों में 19, 17 और 27 रन बनाये. इससे पहले वह लगातार तीन पारियों में इंग्लैंड के खिलाफ 2002 में बोल्ड हुए थे. तब उन्हें मैथ्यू होगार्ड. डोमिनिक कार्क और माइकल वान ने बोल्ड कि या था. सचिन अपने करिअर में अब 51 बार बोल्ड हो चुके हैं. सर्वाधिक बार बोल्ड आउट होने के मामले में उनसे आगे आस्ट्रेलिया के एलेन बार्डर (53) और हमवतन राहुल द्रविड (55) हैं. पिछली 24 टेस्ट पारियों में सचिन 12 बार बोल्ड या पगबाधा आउट हुए हैं. इस वर्ष के शुरू में संन्यास लेने वाले द्रविड़ को भी इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया दौरे में गेंद की लाइन को समझने में इसी तरह जूझना पड़ा था.

आस्ट्रेलिया दौरे पर वह आठ पारियों में वह छह बार बोल्ड हुए थे. इससे पहले वेस्टइंडीज के खिलाफ घरेलू सीरीज में द्रविड लगातार तीन पारियों में बोल्ड हुए थे. द्रविड ने आस्ट्रेलिया दौरे की विफलता के बाद संन्यास का ऐलान कर दिया था. पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने पहली पारी में सचिन के बोल्ड होने के तरीके की कडी आलोचना की थी और अब जब वह दूसरी पारी में भी बोल्ड हो चुके हैं तो निश्चित ही आलोचना के स्वर और मुखर होते जाएंगे. खुद सचिन भी दूसरी पारी में अपने बोल्ड होने पर खासे हताश नजर आये थे. मास्टर ब्लास्टर का मिडल स्टंप जमीन पर पड़ा था और बल्लेबाजी के बेताज बादशाह को इस तरह बोल्ड होते देखना उनके करोडों प्रशंसकों के लिए किसी त्रासदी से कम नहीं था.

zp8497586rq

Related Posts: