आगामी फिल्म ‘कॉकटेल’ के लंदन शूटिंग शेड्यूल के लिए उन्होंने तय कर लिया था कि वे स्टार्स को दी जाने वाली कोई स्पेशल सुविधा नहीं लेंगे. उन्होंने कार, स्पॉट बॉय और फाइव स्टार होटल से खाना मंगाने से भी इनकार कर दिया था.

सैफ अली खान नवाब हैं और उन्हें बचपन से ही शहजादों की तरह ट्रीट किया गया है. बॉलीवुड स्टार्स की शान भी राजकुमारों से कम नहीं होती. फिल्मी दुनिया में भी उन्हें स्पेशल ट्रीटमेंट ही मिलता रहा. अब वे इस शाही ठाटबाट से ऊब चुके हैं और चाहते हैं कि वे एक आम आदमी की जिंदगी जिएं.

आगामी फिल्म ‘कॉकटेल’ के लंदन शूटिंग शेड्यूल के लिए उन्होंने तय कर लिया था कि वे स्टार्स को दी जाने वाली कोई स्पेशल सुविधा नहीं लेंगे. उन्होंने कार, स्पॉट बॉय और फाइव स्टार होटल से खाना मंगाने से भी इनकार कर दिया था. फिल्म से जुड़े एक सूत्र ने कहा ‘स्टारडम का सबसे बड़ा फायदा तो यही होता है कि हर कोई स्टार्स के आगे-पीछे लगा रहता है. उनकी सभी डिमांड्स पूरी करने की भरपूर कोशिश की जाती है. उनके फिजूल के नाज-नखरे भी उठाए जाते हैं.

लंदन में सैफ ने कोई फैसिलिटी नहीं ली. वे टैक्सी से इधर-उधर गए. शॉपिंग के लिए वे अपने स्टाफ के साथ गए लेकिन अपने शॉपिंग बैग्स किसी को पकडऩे नहीं दिए. लंदन के पूरे शेड्यूल के दौरान वे ऐसे ही रहे. फिल्म में उनका किरदार भी कुछ ऐसा ही है. सैफ के एक करीबी सूत्र ने बताया कि ‘वे बचपन में बोर्डिग स्कूल में पढ़े हैं इसलिए उन्हें अपने काम खुद करने की आदत है. अपने नवाबी बैकग्राउंड का उन्हें जरा भी घमंड नहीं है.’

Related Posts: