नई दिल्ली, 19 अक्टूबर. अंबाला में बरामद आरडीएक्स के केस में जांच एजेंसियों को खबर मिली है कि बब्बर खालसा का टारगेट कांग्रेस के पूर्व एमपी सजन कुमार थे। सजन पर कड़कडड़ूमा कोर्ट के आस-पास हमला किया जाना था। खुफिया सूत्रों के मुताबिक, बब्बर खालसा के आतंकवादियों ने कड़कडड़ूमा कोर्ट नंबर 2 के आस-पास रेकी की थी।

तीन मोबाइल बरामद
जम्मू. दिल्ली हाई कोर्ट विस्फोट मामले की जांच में कुछ सफलता हासिल करते हुए एनआईए ने इस मामले के मुख्य संदिग्ध कश्मीरी मेडिकल छात्र के जम्मू स्थित निवास और किश्तवाड़ से तीन मोबाइल फोन बरामद किए हैं। वसीम अहमद बांग्लादेश का मेडिकल छात्र है, जिसे एजेंसी ने इस मामले में गिरफ्तार किया था। उन्होंने कहा कि यह दल इसके बाद हेलिकॉप्टर से किश्तवाड के लिए रवाना हुआ और उसने वहां से एक अन्य मोबाइल तथा कुछ दस्तावेज जब्त किए। सूत्रों ने कहा कि एजेंसी को इस मामले में जल्द ही कोई बड़ी सफलता हासिल करने की उम्मीद है। सात सितंबर को दिल्ली हाई कोर्ट विस्फोट मामले में अब तक अहमद और हिजबुल मुजाहिदीन का संदिग्ध आतंकवादी जुनैद अकरम मुख्य साजिशकर्ता के रूप में उभरे हैं.

अब सजन की सिक्युरिटी बढ़ाई जा रही है। इसके साथ ही पूर्व केंद्रीय मंत्री जगदीश टाइटलर की सुरक्षा बढ़ाने पर भी विचार किया जा रहा है। कोर्ट में दंगों की सुनवाई की तारीख से एक दिन पहले से गारद लगाई जाएगी। अंबाला में आरडीएक्स की खेप मिलने के बाद गृह मंत्रालय ने सजन की सुरक्षा रिव्यू की है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सजन कुमार को सावधान रहने की सलाह दी जाएगी। कोर्ट में तारीख पर जाते हुए उनकी सुरक्षा अब पहले से यादा चाक-चौबंद होगी। खुफिया सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई पंजाब में आतंकवाद को फिर से जिंदा करने के मकसद से बब्बर खालसा को इस्तेमाल कर रही है। माना जाता है कि इस वक्त बब्बर खालसा या खालिस्तान टाइगर फोर्स जैसे संगठनों को स्थानीय समर्थन हासिल नहीं है। लोकल सपोर्ट हासिल करने के मकसद से इस हाई प्रोफाइल अटैक की प्लानिंग की गई थी।

कंधमाल में विस्फोट की साजिश विफल
भुवनेश्वर। उड़ीसा में पुलिस ने सांप्रदायिक रूप से संवदेनशील कंधमाल जिले में विस्फोट की नक्सलियों की बड़ी साजिश को विफल करने का बुधवार को दावा किया। पुलिस ने एक वनक्षेत्र से बड़ी मात्रा में विस्फोटक बरामद किए हैं।

Related Posts: