• क्रिकेट

लंदन, 21 जून. स्पॉट फिक्सिंग में लिप्त होने के कारण साढ़े तीन साल जेल की सजा पाने वाले पूर्व पाकिस्तान कप्तान सलमान बट सात महीने की सजा काटने के बाद आज जेल से रिहा हो गए. वह ब्रिटिश सरकार के जल्द कैदी रिहाई योजना के तहत जेल से बाहर निकले.

बट आज सुबह कैंटरबरी जेल से रिहा हुए. उनके जल्द से जल्द पाकिस्तान लौटने की संभावना है. उनके वकील यासिन पटेल ने बयान में कहा कि सलमान बट को पिछले कई महीनों से निजी और परिवार की तरफ से पीड़ा, तनाव, दबाव और अपमान सहना पड़ा. उन्होंने कहा कि वह स्वदेश लौटेगा. इससे सलमान को अपने परिजनों और रिश्तेदारों के साथ समय बिताने का मौका मिलेगा. वह अपने बेटे को देखने और उसे गोदी में लेने के लिए बेताब है जिसे पिछले साल नवंबर में उसके जन्म के बाद से ही बट ने नहीं देखा है. वह अब अपने प्यारे देश में लौट सकता है. वह फिर से अपनी खोयी प्रतिष्ठा वापस पाने और शीर्ष स्तर की क्रिकेट में लौटने के लिए प्रयास शुरू कर सकता है. पटेल ने कहा कि बट पाकिस्तान लौटने के बाद ही मीडिया से बात करेगा. उन्होंने कहा कि वह बहुत थका हुआ है. एक बार जब उसे थोड़ा आराम मिल जाएगा तब सलमान बट सही समय पर मीडिया से बात करेगा. जिस योजना के तहत बट को रिहा किया गया उसमें तुरंत ही देश छोडऩा होता है. ऐसी दशा में बट दस साल तक इंग्लैंड नहीं लौट पाएगा.

अफरीदी के बयान से पाक क्रिकेट जगत हैरान
कराची, 21 जून. शाहिद अफरीदी के वनडे क्रिकेट से संन्यास लेकर ट्वेंटी-20 क्रिकेट पर ध्यान देने के बारे में विचार करने की घोषणा से पाकिस्तान क्रिकेट जगत स्तब्ध है. इससे राष्ट्रीय टीम में पर्दे के पीछे हो रहे खेल पर सवाल उठने लग गए हैं. श्रीलंका से वापस आने के बाद अफरीदी ने यह कहकर सभी को सकते में डाल दिया था कि टी-20 क्रिकेट पर ध्यान देने के लिए वनडे क्रिकेट से संन्यास लेने की सोच रहे हैं.

हवाई अड्डे पर पत्रकारों से अफरीदी ने कहा कि मैं अपने बड़े बुजुर्गों से सलाह लेने के बाद कुछ दिनों में फैसला ले सकता हूं. यदि मैं वनडे में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहा हूं तो मुझे निश्चित ही संन्यास ले लेना चाहिए. अफरीदी के मुताबिक उन्हें लगता है कि विश्वकप की तैयारियों के मद्देनजर चयनकर्ताओं को अधिक से अधिक युवाओं को मौका देना चाहिए. टेस्ट क्रिकेट से पहले ही संन्यास ले चुके इस आक्रामक खिलाड़ी ने कहा कि श्रीलंका में अपने प्रदर्शन से वे बहुत निराश हैं. क्रिकेट विशेषज्ञ अफरीदी के बयान को अलग तरह से ले रहे हैं. एक विश्लेषक ने कहा कि हो सकता है कि अफरीदी को लग गया हो कि कोच डेव वाटमोर युवा खिलाडिय़ों को अधिक तरजीह दे रहे हैं और सीनियर खिलाडिय़ों को धीरे-धीरे बाहर करना चाहते हों. उन्होंने हालांकि साथ ही कहा कि अफरीदी कप्तान पद से हटाए जाने के कारण निराश थे. उन्होंने कहा कि श्रीलंका दौरे से पहले टी-20 कप्तान के लिए अपने नाम पर विचार नहीं किए जाने से भी अफरीदी निराश थे.

Related Posts: