भोपाल खूबसूरत शहर : थिनले

सांची में बौद्व विवि की आज रखी जाएगी आधारशिला

भोपाल,20 सितंबर,नभासं. भूटान के प्रधानमंत्री जिग्मे वाय. थिनले सांची में बौद्व विश्वविद्यालय की आधारशिला रखे जाने के कार्यक्रम में शामिल होने खातिर आज राजधानी पहुंचे.उनका राजधानी में आज काफी व्यस्त कार्यक्रम रहा.वह वनविहार में जानवरों को निहारने और राज्य प्रतिनिधिमंड़ल के अलावा भूटानी छात्रों के दल से भी मिले.

इधर,मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि साँची में स्थापित होने जा रहा बौद्ध एवं भारतीय ज्ञान अध्ययन विश्वविद्यालय बहुत अच्छा कदम है. इसमें भूटान सभी संभव सहयोग करेगा. प्रधानमंत्री थिनले ने बौद्ध स्तूप के लिये विश्व प्रसिद्ध नगर साँची में भूटान के सहयोग से सांस्कृतिक केन्द्र बनाने की सहमति व्यक्त की. मुख्यमंत्री ने थिनले का स्वागत करते हुये कहा कि इस केन्द्र के लिये राज्य शासन द्वारा आवश्यक भूमि उपलब्ध करवायी जाएगी.

मुख्यमंत्री ने भूटान के ग्रास हेप्पीनेस कान्सेप्ट का उल्लेख करते हुए कहा कि केवल ग्रास डोमेस्टिक प्रोडक्ट ही पर्याप्त नहीं बल्कि जीवन के बाकी पहलुओं का भी महत्व है. प्रधानमंत्री थिनले ने बताया कि उनके देश का यह कान्सेप्ट और देशों ने भी समझा है. भौतिक प्रगति के साथ मन की खुशी भी महत्वपूर्ण है. भूटान ने आर्थिक उन्नति का एक नया मॉडल विकसित किया है, जिसे संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी अच्छा माना है.

प्रधानमंत्री थिनले ने कहा कि मध्यप्रदेश आकर वे बहुत प्रसन्न हैं. यहाँ स्थापित हो रहे बौद्ध विश्वविद्यालय के माध्यम से भूटान के युवाओं को मेल-जोल का मौका मिलेगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि भूटान के युवा यहाँ पर सांस्कृतिक, आध्यात्मिक और खेल गतिविधियों के लिये आएं, इससे आपसी सद्भाव और समझ बढ़ेगी. प्रधानमंत्री थिनले ने कहा कि भारत और भूटान दोनों बहुत गहरे दोस्त हैं. उन्होंने चर्चा के दौरान हिन्दी में बातचीत करते हुए कहा कि अपनी भाषा को सँवारना चाहिए. अपनी भाषा के माध्यम से ही हम अपनी जड़ों से जुड़े रहते हैं.

मुख्यमंत्री को भूटान आमंत्रित किया
भूटान के प्रधानमंत्री जिग्मे वाय. थिनले ने आज यहाँ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भूटान आने का निमंत्रण दिया. मुख्यमंत्री चौहान ने भी थिनले को पुन: मध्यप्रदेश आने का निमंत्रण देते हुए कहा कि अगली बार सपरिवार पधारें. थिनले ने कहा कि पहले आप भूटान आइये. फिर मैं आऊंगा. इस आत्मीय आमंत्रण को इस तरह दोनों ही नेताओं ने सहर्ष स्वीकार किया. थिनले को दोपहर भोजन के पश्चात मुख्यमंत्री निवास से राज्यपाल रामनरेश यादव, मुख्यमंत्री चौहान तथा श्रीमती साधना सिंह ने भावभीनी विदाई दी. इससे पहले मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री थिनले सहित अतिथियों को चंदेरी निर्मित अंगरखा ओढ़ा कर पारम्परिक तरीके से सम्मानित करते हुए स्मृति-चिन्ह भेंट किये.

भोपाल शहर बहुत सुन्दर है
भूटान के प्रधानमंत्री जिग्मे वाय. थिनले ने कहा है कि यह शहर बहुत सुन्दर और झील बहुत विशाल है. अगर मौका लगा तो वे पुन: यहाँ आयेंगे. कोई 50 वर्ष पहले मेरी माता जी साँची आयी थीं. मेरी साँची यात्रा की जानकारी से वे बहुत खुश हुईं. थिनले ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान ने यहाँ आमंत्रित कर साँची जाने का अच्छा अवसर दिया. यहाँ आकर  खुशी हुई.

भोपाल पहुँचने पर आत्मीय स्वागत
भूटान के प्रधानमंत्री जिग्मे वाय. थिनले का भोपाल पहुँचने पर आत्मीय स्वागत किया गया. राज्यपाल रामनरेश यादव एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भूटान के प्रधानमंत्री की अगवानी की.भूटान के प्रधानमंत्री प्रात: 11 बजे विमान से राजा भोज विमानतल पहुँचे.भूटान के प्रधानमंत्री के साथ आये प्रतिनिधि-मंडल का भी तिलक-श्रीफल से स्वागत किया गया. प्रतिनिधि-मंडल में भूटान सेन्ट्रल मोनेस्टीक बॉडी के वेन तेस्गुला लोपेन सेमटेन दोरजी प्रमुख रूप से साँची बौद्ध एवं भारतीय ज्ञान अध्ययन विश्वविद्यालय के शिलान्यास एवं भूमि-पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए भोपाल पहुँचे हैं.

उधर,श्रीलंका के राष्ट्रपति राजपक्षे शुक्रवार को सुबह 10 बजे दिल्ली से राजा भोज विमान तल पर आएँगे. राज्यपाल रामनरेश यादव और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विमान तल पर उनकी अगवानी करेंगे. आदिवासी नर्तक उनका पारम्परिक स्वागत करेंगे. श्रीलंका के राष्ट्रपति राजपक्षे सुबह 10.45 बजे साँची पहुँचेंगे. स्थानीय सांसद और लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष श्रीमती सुषमा स्वराज तथा संस्कृति मंत्री लक्ष्मीकान्त शर्मा वहाँ उनकी अगवानी करेंगे. राष्ट्रपति 11 बजे पवित्र अवशेषों तथा साँची स्तूप का अवलोकन करेंगे. राजपक्षे दोपहर 12 बजे साँची बौद्ध विश्वविद्यालय के शिलान्यास समारोह में भाग लेंगे. राजपक्षे दोपहर 12.30 बजे आमसभा में हिस्सा लेंगे. राज्यपाल और मुख्यमंत्री दोपहर भोज के बाद अपरान्ह 3.30 बजे राजपक्षे को विदा करेंगे. राजपक्षे अपरान्ह 3.35 बजे महाबोधि सोसायटी ऑफ श्रीलंका सेन्टर जाएँगे.राजपक्षे सायं 4.40 बजे राजा भोज विमान तल से दिल्ली के लिए रवाना होंगे.

Related Posts: