राज्यपाल रामनरेश यादव का सीएसआईआर के स्थापना दिवस समारोह में आव्हान

भोपाल,26 सितंबर.राज्यपाल रामनरेश यादव ने वैज्ञानिकों का आव्हान किया है कि वे ऐसे विषयों पर शोध करें जिनसे आम आदमी का जीवन-स्तर ऊँचा हो सके. उन्होंने समाज के हितों से जुड़े विषयों पर भी वैज्ञानिक शोध की आवश्यकता पर बल दिया.

राज्यपाल आज यहाँ वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् (सीएसआईआर) के 70 वें स्थापना दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे. इस अवसर उन्होंने वैज्ञानिकों तथा उनके मेधावी बच्चों को पुरस्कृत भी किया. राज्यपाल ने कहा कि वैज्ञानिक अपने आसपास की समस्याओं एवं ज्वलंत मुद्दों के प्रति जागरूक रहें. वैज्ञानिक स्थानीय मुद्दों के चयन को प्राथमिकता दें ताकि समाज की विभिन्न समस्याओं का प्रभावी समाधान हो सके. उन्होंने कहा कि विज्ञान की उपलब्धियों से देशवासियों को निरंतर अवगत करवाया जाना चाहिए. इससे आम आदमी के जीवन के हर पहलू के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी को उपयोगी बनाने में मदद मिलेगी. श्री यादव ने कहा कि ऊर्जा और तकनीकी के क्षेत्र में देश को विश्व-स्तर पर प्रतिष्ठित करने के लिए विश्व-स्तरीय शोध और अन्वेषण के प्रकल्पों को बढ़ावा देना होगा.

राज्यपाल ने कहा कि भारत गाँवों का देश है और कृषि हमारी अर्थ-व्यवस्था का आधार है. युवा वैज्ञानिकों को यह बात ध्यान में रखकर शोध करना चाहिए. अध्ययन, अनुसंधान और शोध के बारे में ग्रामीणों को जानकारी देने के लिए समय-समय पर प्रदर्शनी आयोजित की जाये. वैज्ञानिक खेतों में जायें और किसानों तथा पिछड़े वर्ग के लोगों से मिलें ताकि उन्हें समाज की वास्तविकता की जानकारी मिल सके.

प्रारंभ में स्वागत भाषण में परिषद् के मुख्य वैज्ञानिक डॉ. नवीन चंद्र ने परिषद् के इतिहास और गतिविधियों की जानकारी दी. वरिष्ठ वैज्ञानिक पी.डी. एकबोटे ने परिषद् की उपलब्धियों के बारे में बताया. बीएचईएल के कार्यपालक निदेशक शांति स्वरूप गुप्ता ने बीएचईएल और परिषद् के बीच संबंधों तथा सहयोग की जानकारी दी. वरिष्ठ वैज्ञानिक ए.के. झा ने आभार व्यक्त किया. राज्यपाल ने परिषद् में सेवा के 25 वर्ष पूर्ण करने वाले तथा विशेष उपलब्धियाँ अर्जित करने वाले वैज्ञानिकों तथा कर्मचारियों को पुरस्कृत किया. उन्होंने कर्मचारियों के मेधावी बच्चों को भी पुरस्कार दिए.

Related Posts: