खाद्य सुरक्षा कानून के विरोध में दूसरे दिन हिंसात्मक हुआ बंद

  • जवानों की मौजूदगी में मिला दूध
  • मांगलिया में पुलिस फार्स तैनात
  • हर वाहन के साथ 3 जवान

नवभारत टीम
इंदौर,  भोपाल, प्रदेश के अंचलों से, 10 अप्रैल. प्रदेश में केंद्र सरकार के खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम 2006 के विरोध में आयोजित तीन दिवसीय राज्यव्यापी बंद का दूसरे दिन भी खासा असर नजर आया. इंदौर सहित मालवा-निमाड़ में आम जनता दूध को तरस गई, जबकि व्यापारियों ने हजारों लीटर दूध नर्मदा में  बहा दिया.  उज्जैन के बडऩगर में व्यापारियों पर फायरिंग की गई. इंदौर में रीगल चौराहा पर व्यापारियों ने अर्धनग्न होकर मुंह पर ताले लगा, पेट पर पत्थर रखकर प्रदर्शन  किया.

प्रशासन व पुलिस की सख्ती का दावा बेअसर नजर आया. किराना व अन्य खाद्य पदार्थो के लिए भी लोग परेशान होते रहे. चाय-नाश्ता तक नहीं मिला.  व्यापारिक संगठनों द्वारा केंद्र सरकार के खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम 2006 के विरोध में आयोजित तीन दिवसीय राज्यव्यापी बंद  के चलते आम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा, क्योंकि उन्हें रोजमर्रा की जरूरत की चीजें आसानी से नहीं मिल पाई. केंद्र सरकार के खाद्य सुरक्षा कानून के खिलाफ राज्य के तमाम व्यापारिक संगठनों ने नौ से 11 अप्रैल तक पूरे राज्य में बंद का ऐलान किया है.बंद के दूसरे दिन राजधानी भोपाल सहित राज्य के अन्य हिस्सों में भी दूसरे दिन बंद का असर साफ नजर आ रहा है. चाय, नाश्ते की दुकानें बंद है और सब्जियां तक आसानी से नहीं मिल पा रही है. बंद कराने को लेकर विवाद की स्थितियां भी बनी है. कई स्थानों पर जबरिया दुकानें बंद कराए जाने की भी सूचनाएं मिल रही है.

मुस्तैद था प्रशासन

कल से अधिक आज प्रशासन मुस्तैद नजर आया. यही कारण था कि आज देवास व बडऩगर को छोड़ कहीं से भी किसी तरह की मारपीट व दूध ढोलने के समाचार नहीं मिले. महाबंद के दूसरे दिन पुलिस के साए में सांची का दूध तो बिका, पर दूध कब आया और कब खत्म हो गया ग्राहकों को पता ही नहीं चल पाया. सुबह सात बजे के पहले ही सांची पाइंट से दूध गायब था. कल से ज्यादा प्रशासन आज मुस्तैद नजर आया. हड़ताली व्यापारी दूध न ढोल दें इसके लिए केवल मांगलिया में 50 से अधिक जवान तैनात कर दिए गए, बल्कि हर वाहन के साथ 3-3 जवान भी तैनात किए गए.

बडऩगर में गोलियां चलीं, दो घायल
उज्जैन. आज महाबंद के दौरान बडऩगर सब्जी मंडी में गोलियां चल गई. इसमें २ व्यक्ति घायल हो गए, जिनमें एक की हालत गंभीर बनी हुई है. घटना सुबह १० बजे की बताई जाती है. महाबंद के दौरान बडऩगर में भी सब्जी मार्केट बंद है. आज सुबह कुछ लोग सब्जी की बोली लगा रहे थे, इसी बात पर भोई समाज के दो पक्षों में विवाद हो गया और भोई मोहल्ला बडऩगर में गोलियां चल गई.

देवास में सांची की गाड़ी फोड़ी

महाबंद के समर्थकों ने आज सबेरे इंदौर से देवास आ रहे सांची दूध के एक वाहन में तोडफ़ोड़ की. साथ ही सांची कम्पनी के कर्मचारियों के साथ झूमाझटकी भी की गई. इन उपद्रवियों ने सांची का लगभग 800 से 900 लीटर दूध सड़क पर फेंक दिया.

नर्मदा में बहाया दूध

प्रदेश के अनेक कस्बों में जहां लोगों को एवं उनके बच्चों को पीने के लिए दूध नहीं मिल रहा था, वहीं जबलपुर में बंद समर्थकों ने नर्मदा नदी में सैकड़ों लीटर दूध बहा दिया.

करोड़ों का नुकसान

खाद्य सुरक्षा अधिनियम के विरोध में प्रदेशभर के व्यापारियों के दिन के महाबंद के दूसरे दिन बाजारों में सन्नाटा पसरा था. सुबह से ही आवश्यक वस्तुओं के  लिए भागदौड़ मची रही.  बंद के पहले दिन इस महाबंद से मध्यप्रदेश में 500 करोड़ रूपए का नुकसान होने का अनुमान है.

कांग्रेसाध्यक्ष तक पहुंचेगी बात

बंद समर्थक व्यापारियों ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया एवं विधानसभा में नेताप्रतिपक्ष अजयसिंह को एक ज्ञापन सौंपकर अपनी मांगों से अवगत कराया. इस पर भूरिया ने आश्वासन दिया, वे व्यापारियों की बात हाईकमान तक पहुंचाएंगे.

Related Posts: