मुंबई. देश के शेयर बाजारों में शुक्रवार को गिरावट का रुख रहा। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 238.11 अंकों की गिरावट के साथ 17094.51 पर जबकि निफ्टी 69.40 अंकों की गिरावट के साथ 5207.45 पर बंद हुआ।

शुक्रवार सुबह बंबई स्टाक एक्सचेंज [बीएसई] का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 91.05 अंक की गिरावट के साथ 17232.56 पर जबकि नेशनल स्टाक एक्सचेंज [एनएसई] का 50 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक निफ्टी 21.15 अंक की गिरावट के साथ 5255.70 पर खुला था। बीएसई के स्मालकैप एवं मिडकैप सूचकांकों में भी गिरावट देखी गई। मिडकैप 45.98 अंक की गिरावट के साथ 6337.97 पर जबकि स्मालकैप 43.02 अंक की गिरावट के  साथ 6799.23 पर बंद हुआ।

भारत का सालाना निर्यात 300 अरब डालर के ऊपर

नई दिल्ली. अमेरिका व यूरोप के बड़े बाजारों में चुनौतीपूर्ण आर्थिक हालात के बावजूद भारत ने 2011-12 के दौरान 300 अरब डालर से अधिक का निर्यात किया। देश का निर्यात पहली बार 300 अरब डालर से ऊपर हुआ है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री आनंद शर्मा ने कहा कि मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि पिछले वित्त वर्ष में भारत का निर्यात 300 अरब डालर से ऊपर पहुंच गया।

जिन क्षेत्रों में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है उनमें इंजीनियरिंग, रत्न एवं जेवरात, कपड़े, रसायन और दवाएं शामिल हैं। उन्होंने कहा कि पिछले वित्त वर्ष में कुल आयात बढ़कर 485 अरब डालर का हो गया। ऐसा मुख्य तौर पर पेट्रोलियम की ऊंची कीमत के कारण हुआ। पिछले वित्त वर्ष के दौरान पेट्रोलियम का आयात 150 अरब डालर तथा सोना- चांदी का आयात 60 अरब डालर के बराबर रहा। हालांकि वाणिज्य सचिव राहुल खुल्लर ने कहा कि ये आंकड़े अस्थाई हैं। अंतिम आंकड़ा इसी महीने बाद में जारी किया जाएगा।

मंत्री ने कहा कि बेहद मुश्किल वैश्विक हालात और कुछ पारंपरिक बाजारों में मांग की कमी के बावजूद हमारी दिशा ठीक है, नए बाजारों में विविधीकरण से हमें अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद मिली। उन्होंने कहा कि पिछले वित्त वर्ष के दौरान व्यापार घाटा बढ़कर 185 अरब डालर हो जाना चालू वित्त वर्ष के लिए भी बड़ी चुनौती है।

Related Posts: