संप्रग सरकार के साथ एक बार फिर टकराव

कोलकाता 21 जुलाई.केंद्र की संयुक्त प्रगतिशील.संप्रग.सरकार के साथ एक बार फिर टकराव की मुद्रा में दिख रहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज केंद्र सरकार को धमकी दी कि राज्य की पिछली सरकार द्वारा लिये गये 2.3 करोड के रिण पर बयाज का भुगतान यदि केंद्र सरकार तीन साल के लिए स्थगित नहीं करती है तो उस पर और दबाव डाला जायेगा.

सुश्री बनर्जी ने कहा पिछले एक साल से हम लगातार केंद्रं सरकार से अनुरोध कर रहे हैं कि पिछली सरकार द्वारा ली गयी इस बडी रिण राशि पर ब्याज के भुगतान पर तीन साल का स्थगन लगा दिया जाए1 इस मामले पर खुद मैं और वित्त मंत्री अमित मित्रा कई बार केन्द्र सरकार से बात कर चुके हैं1 उन्होंने कहा पिछली सरकार द्वारा ली गयी इस बडी रिण राशि पर ब्याज का भुगतान आखिर हमारी क्यों करे1 हम किसी वित्तीय पैकेज की मांग नहीं कर रहे हैं और न.न ही हम केंद्र सरकार से किसी प्रकार की दया दिखाने की गुहार लगा रहे हैं1 हम केवल इतना चाहते हैं कि हमारी यह मांग मान ली जाए1 सुश्री बनर्जी ने राज्य में कांग्रेस के साथ चुनावी समझौता तोडने का संकेत देते हुए घोषणा की कि राज्य में होने वाले आगामी पंचायत चुनावों में पार्टी अकेले ही मैदान में उतरेगी.

सुश्री बनर्जी की इस घोषणा के बाद विपक्षी वाम दलों ने उन्हें ..अवसरवादी.. की संज्ञा देते हुए कहा कि उन्होंने केंद्र में तो कांग्रेस के साथ गठबंधन किया है. उनके कई मंत्री कें द्र सरकार में शामिल हैं और राज्य मेंं वह कांग्रेस के साथ समझौता तोडने की बात कर रहीं हैं1.. दूसरी ओर सुश्री बनर्जी ने कहा है कि उनकी पार्टी तभी तक के ंद्र सरकार का हिस्सा बनी रहेगी जब तक उनकी पार्टी के साथ सम्मानपूर्ण तरीके से व्यवहार किया जायेगा1

कार्यप्रणाली पर प्रफुल पटेल ने की नाराजगी जाहिर

मुंबई 21 जुलाई. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी .राकांपा. के वरिष्ठ नेता और केन्द्रीय भारी उद्योग मंत्री प्रफुल पटेल ने आज स्वीकार किया कि महाराष्ट्र में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की कार्यप्रणाली से राकांपा और कांग्रेस में मतभेद है.

श्री पटेल ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से कांग्रेस ने कभी भी राकांपा से किसी भी मामले पर सलाह नहीं ली है1 महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण का नाम लिये बिना श्री पटेल ने कहा कि पिछले एक वर्ष में दोनों पार्टियों की समन्वय समिति की कोई बैठक नहीं हुयी. उनकी पार्टी संप्रग.के साथ रहना चाहती है लेकिन उनकी बात भी सुनी जानी चाहिए. श्री प्रणव मुखर्जी के राष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाये जाने के बाद केंद्र सरकार के मंत्रिमंडल में नंबर दो का दर्जा केन्द्रीय कृषि मंत्री शरद पवार को दिये जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने कभी नंबर का प्रश्न नहीं उठाया लेकिन केन्द्र सरकार दूसरे कार्यकाल में श्री पवार की विशेषज्ञताओं का उचित तरीके से उपयोग नहीं कर रही है. उन्होंने कहा कि नंबर का खेल मीडिया के दिमाग की उपज है हालांकि उन्होंने इस संबंध में किसी का नाम नहीं लिया1

Related Posts: