भोपाल,4 जनवरी,नभासं.प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अभय दुबे ने राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो की सूचनाओं पर केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी की गई रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश लगातार छठवें वर्ष पूरे देश में अपराध में नंबर 1 पर रहा है.

उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं लगातार पांचवे वर्ष मध्यप्रदेश बलात्कार में नंबर वन आया है. लगातार चौथे वर्ष महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की घटना में नंबर वन आया है. आदिवासियों के साथ होने वाले अपराधों में भी पूरे देश में मध्यप्रदेश पहले स्थान पर हैं. उन्होंने केद्रीय रपट का हवाला देते हुए कहा कि बच्चों के साथ होने वाले बलात्कार की घटना में भी पूरे देश में मध्यप्रदेष पहले स्थान पर है. संज्ञान योग्य बाल अपराध में भी मध्यप्रदेष पूरे देष में दूसरे स्थान पर हैं. इसी प्रकार 21 वर्ष की कम उम्र की दूसरे राज्यों से देह व्यापार के लिए प्रदेश में लाई जाने वाली बच्चियों वाले अपराध में भी मध्यप्रदेश पूरे देश में पहले नंबर पर है.

दुबे ने पत्रकारवार्ता में कहा कि मध्यप्रदेश में कुल आईपीसी अपराध का 9.3 प्रतिशत होकर 217094 अपराध घटित हुए है. जो कि देश में सर्वाधिक है. मध्यप्रदेश में इस बार फिर 3406 बलात्कार की घटनाएं हुई है और पूरे देश भर में मध्यप्रदेश पहले स्थान पर हैं. उसी प्रकार महिलाओं के साथ छेड़छाड के मामलों में भी मध्यप्रदेश  6665 प्रकरणों के साथ पहले नंबर पर हैं. प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि इसका आशय साफ  है कि अगर लगातार 6 वर्षों तक कोई प्रदेश महिलाओं के साथ बलात्कार, अवयस्क बच्चों के साथ बलात्कार, संज्ञान योग्य बाल अपराध, अनुसूचित जाति, जनजाति वर्गों के साथ अपराध, महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और कुल मिलाकर आईपीसी के तहत होने वाले अपराधों में लगातार छ: वर्षों से अगर पूरे देश में पहले स्थान पर हैं, तो उस प्रदेश में नागरिकों में कितना असुरक्षा का भाव होगा. जहां एक ओर समूचे देश में जो प्रदेश अपनी संस्कृति और संस्कारों को लेकर ख्याति अर्जित किए हुए था. आज अक्षम नेतृत्व के चलते वह किस बदहाली की कगार पर आ खड़ा हुआ है.

Related Posts:

आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने भूख हड़ताल के बाद प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा
रोमांचित बैरागढ वासियों ने मनाई खुशियां
जूही आई भोपाल, फैमिली बिजनेस व सोशल वर्क में व्यस्त
स्वीकृत विकास कार्यों को तत्काल प्रारंभ कराएं
बैंक ने किसी ओर के खाते में डाल दी मुआवजा राशि
अंतर्राष्ट्रीय वैचारिक महाकुंभ में भाग लेने पहुंचे प्रधानमंत्री