मनोज बाजपेयी की ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में महिला संगीतकार स्नेहा खनवलकर के म्यूजिक ने फिल्म में चार चांद लगा दिए हैं. वैसे तो फिल्म का प्रोमो ही लोगों में रोमांच पैदा कर चुका है लेकिन हाल ही में फिल्म के एक गाने के प्रोमो और म्यूजिक ने फिल्म के लिए उत्सुकता और भी बढ़ा दी है.
फिल्म के गाने ‘जिया हो बिहार के लाला’ का प्रोमो रिलीज किया गया है. फिल्म में बॉलीवुड की चौथी महिला संगीतकार और 21वीं सदी की बॉलीवुड की पहली महिला संगीतकार स्नेहा खनवलकर ने म्यूजिक दिया है.  स्नेहा मूल रूप से मध्य प्रदेश के ग्वालियर की रहने वाली हैं लेकिन बिहार की पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म में स्नेहा ने बिहारी और मराठी संगीत को मिक्स कर लुभावना संगीत दिया है. वैसे तो स्नेहा पहले भी कई हिंदी फिल्मों में म्यूजिक दे चुकी हैं जिनमें 2007 की गो, 2008 की ओये लक्की लक्की ओये, 2010 की लव, सेक्स और धोखा, 2011 की भेजा फ्राई-2 फिल्में प्रमुख हैं. ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ के अलावा स्नेहा अनुराग कश्यप की फिल्म ‘अईया’ में भी काम कर रही हैं.
दूसरी महिला म्यूजिक डायरेक्टर सरस्वती देवी 1930 और 40 के दशक में हिंदी फिल्म इंडस्ट्री का जाना-माना नाम थीं. सरस्वती देवी ने अधिकांश गीत फेमस स्टूडियो बॉम्बे टॉकीज के लिए कम्पोज किए. लेकिन महिला संगीतकार के तौर पर सबसे ज्यादा नाम कमाया ऊषा खन्ना ने जिन्होंने हिंदी सिनेमा में 1959 में रिलीज फिल्म ‘दिल देके देखो’ के जरिए डेब्यू किया और लगभग तीन दशक तक म्यूजिक इंडस्ट्री का जाना-माना चेहरा रहीं. 1983 में रिलीज फिल्म ‘सौतन’ में उनके उत्कृष्ट संगीत के लिए उन्हें फिल्मफेयर अवॉर्ड के लिए भी नामित किया गया था.

Related Posts: