नई दिल्ली, 2 जनवरी.  बीजेपी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली ने कहा कि अगर केंद्र ने लोकायुक्त के मामले में राज्यों के अधिकारों का ख्याल रखा होता, तो बीजेपी लोकपाल को संवैधानिक दर्जा दिलाने में सरकार का साथ जरूर देती.

राज्यसभा में लटके लोकपाल बिल पर अब संसद के बजट सत्र में चर्चा होगी, लेकिन कांग्रेस और बीजेपी लगातार एक-दूसरे पर हमले कर रही हैं. अरुण जेटली का यह भी कहना है कि लोकपाल पर बात तभी बन सकती है, जब इसकी नियुक्ति पर सरकार का नियंत्रण न हो और लोकपाल की अपनी जांच एजेंसी और उसका अधिकार क्षेत्र हो. उन्होंने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया कि बीजेपी ने संविधान में संशोधन के मुद्दे पर इस बिल को इसलिए लटका दिया, क्योंकि यह राहुल गांधी का विचार था. गौरतलब है कि राहुल गांधी ने लोकपाल को संवैधानिक दर्जा देने की वकालत की थी.

5 जनवरी को राष्ट्रपति से मिलेगा भाजपाई दल
नयी दिल्ली, 02 जनवरी, नससे. राज्यसभा की घटना को लेकर भाजपा संसदीय दल राष्ट्रपति से मिलेगा. पार्टी ने बताया है कि 3 जनवरी को राष्ट्रपति की अनुपलब्धता के कारण समय बढ़ाया गया है. पार्टी महासचिव रविशंकर प्रसाद ने कहा कि पार्टी अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार 3 जनवरी से 10 जनवरी तक लोकतंत्र बचाओ, कांग्रेस हटाओ अभियान के तहत देश के सभी जिला केन्द्रो पर विरोध प्रदर्शन करेगी. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ने भाजपाई सांसदो से 5 जनवरी को मिलने का समय दिया है. साथ ही श्री प्रसाद ने आज फिर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा है कि जनसंघ के समय से कांग्रेस उसपर अनर्गल आरोप लगाती आ रही है लेकिन उसका जनाधार बढ़ता ही जा रहा है.

Related Posts: