• योग गुरु रामदेव समर्थकों की जवाबी कार्रवाई!
  • कांग्रेसियों ने की पिटाई, अधमरा हुआ आरोपी

नई दिल्ली, 16 जनवरी. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की तस्वीर पर एक शख्स ने कालिख पोत दी. कालिख पोतने वाला योगगुरु बाबा रामदेव का समर्थक बताया जा रहा है.

राजधानी दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय के दफ्तर के बाहर लगे एक बोर्ड की तस्वीर पर सोमवार को एक शख्स ने कालिख पोत दी. इस बोर्ड पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की भी तस्वीर है. तस्वीर पोतने वाला शख्स रामदेव का समर्थक बताया जाता है. इस घटना के बाद कांग्रेस मुख्यालय के बाहर जमामा कांग्रेस समर्थकों और प्रदर्शनकारियों में झड़प हुई. कांग्रेस मुख्यालय के बाहर मौजूद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कालिख पोतने वाले शख्स की जमकर पिटाई कर दी.

सोची-समझी साजिश
इस घटना पर बाबा रामदेव के प्रवक्ता ने कहा है कि कालिख पोतने वाले लोगों से बाबा रामदेव का कोई संबंध नहीं है. यह घटना किसी की सोची-समझी साजिश का नतीजा है.

रामदेव समर्थक
कांग्रेस समर्थकों का आरोप है कि यह शख्स रामदेव का समर्थक है. मालूम हो कि शनिवार को बाबा रामदेव पर एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान एक शख्स ने काली स्याही फेंक दी थी. सोनिया गांधी की तस्वीर पर कालिख पोतने की घटना को इसी से जोड़ कर देखा जा रहा है.

भगत सिंह क्रांति सेना ने ली जिम्मेदारी
दूसरी तरफ भगत सिंह क्रांति सेना ने कांग्रेस मुख्यालय के बाहर हुए हंगामे की जिम्मेदारी ली है. वहीं कालिख पोतने वाले शख्स की इतनी पिटाई की कि वह अधमरा सा हो गया. मौके मौजूद पुलिस ने हालात पर काबू पा लिया और उसे हिरासत में ले लिया. घटना दुर्भाग्यपूर्ण-घटना के संबंध में कांग्रेस नेता और केंद्रीय मंत्री राजीव शुक्ला ने कहा कि यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है और राजनीति में इस तरह की घटनाएं ठीक नहीं हैं.

प्रियंका को कांग्रेसियों ने ही रोका

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के नाराज कार्यकर्ताओं ने सोमवार को कांग्रेस की स्टार प्रचारक प्रियंका गांधी के काफिले को रोककर विरोध जताया. टिकट बंटवारे को लेकर नाराज करीब 200 कार्यकर्ताओं ने गोपालगंज में प्रियंका के काफिले को फुरसतगंज और मुंशीगंज के बीच रोका. कार्यकर्ता का कहना है कि स्वच्छ छवि के स्थानीय लोगों को टिकट दिया जाए. प्रियंका गांधी ने नाराज लोगों को भरोसा दिलाया कि वह उनकी बात पार्टी हाईकमान तक पहुंचाएंगी. गौरतलब है कि प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सोमवार से अमेठी और रायबरेली के तीन दिवसीय दौरे पर हैं. प्रियंका तीन दिन तक अमेठी तथा रायबरेली में रुकेंगी. इस दौरान वह पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठकें करेंगी. प्रियंका 18 जनवरी को दिल्ली वापस लौट जाएंगी. रायबरेली और अमेठी में 10 विधानसभा सीटों पर प्रियंका कांग्रेस उम्मीदवारों के पक्ष में तीन दिनों तक प्रचार करेंगी. वहां पर वह चार विधानसभाओं के कार्यकर्ताओं से मिलेंगी. देर रात वह विश्राम करेंगी. सुबह 9 बजे सबसे पहले सलोन विधानसभा के ब्लाक स्तरीय कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद करेंगी.

संजय गांधी अस्पताल के अतिथि गृह में तिलोई विधानसभा क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक के साथ अपने तीन दिवसीय दौरे की शुरुआत करते हुए प्रियंका ने कहा कि सभी कार्यकर्ता पार्टी उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित करने के लिए जुट जाएं. इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी दी कि गुटबाजी बर्दाश्त नहीं की जायेगी और यह भी बताया कि गुटबाजी पर नजर रखने के लिए गांव स्तर पर उडऩदस्ते बनाये जायेंगे. उन्होंने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता आपसी मनमुटाव को भूलकर पार्टी की जीत और मिशन 2012 की कामयाबी के लिए संकल्पबद्ध होकर काम करें. उन्होंने कहा कि समय कम है इसलिए वे बिना समय गंवाए गांव-गांव पहुंचकर जनता से सम्पर्क करें और उन्हें कांग्रेस तथा संप्रग सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं से अवगत कराएं. अमेठी और रायबरेली में 10 विधानसभा सीटें हैं. अमेठी में 15 और रायबरेली में 19 फरवरी को मतदान होना है. 2002 में कांग्रेस को सिर्फ दो सीटें मिली थीं, 2007 में जब प्रियंका गांधी ने प्रचार किया तो सात सीटें समेत कांग्रेस ने 2007 के चुनाव में उत्तर प्रदेश में 22 सीटें जीती थीं.

Related Posts: