सेरेना की नजरें छक्के पर

NOvac_Serena Williumsमेलबर्न, 13 जनवरी. गत चैंपियन और विश्व नंबर वन सर्बिया के नोवाक जोकोविच जब सोमवार को सत्र के पहले ग्रैंड स्लेम आस्ट्रेलियन ओपन टेनिस टूर्नामेंट में उतरेंगे तो उनकी नजरें लगातार तीसरी बार यह खिताब अपने नाम करने पर लगी होंगी जबकि पांच बार यह खिताब अपने नाम कर चुकी विश्व नंबर तीन महिला खिलाड़ी अमेरिका की सेरेना विलियम्स इस बार जीत की प्रबल दावेदार मानी जा रही हैं.

जोकोविच वर्ष 2008 के बाद 2011 और फिर 2012 में लगातार दो बार और कुल तीन बार यह खिताब अपने नाम कर चुके है. अब उनकी नजरें लगातार तीसरी बार इस खिताब पर अपना कब्जा जमाने और जीत के साथ ग्रैंड स्लेम टूर्नामेंटों की शुरूआत करने पर लगी होगी. जोकोविच को गत वर्ष फाइनल में स्पेन के राफेल नडाल से कड़ी टक्कर मिली थी लेकिन चोटिल होने के कारण नडाल इस वर्ष चुनौती पेश नहीं कर पाएंगे. जोकोविच को गत वर्ष खिताब अपने नाम करने के लिए नडाल के खिलाफ छह घंटे तक पसीना बहाना पड़ा था लेकिन इस बार विश्व नंबर एक खिलाडी को नडाल की कड़ी चुनौती नहीं मिल पाएगी.

इसके अलावा जोकोविच से गत वर्ष सेमीफाइनल में कडे संघर्ष के बाद हारने वाले विश्व नंबर तीन और ओलंपिक विजेता ब्रिटेन के एंडी मरे और विश्व नंबर दो स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर भी खिताबी होड में शामिल हैं. मरे ने गत वर्ष यूएस ओपन जीतकर ब्रिटेन का लंबे समय से चला आ रहा ग्रैंड स्लेम खिताब का सूखा समाप्त कर दिया और फिर घरेलू मैदान पर ओलंपिक का स्वर्ण पदक जीतकर बता दिया है कि वह मेलबर्न में भी खिताब के प्रबल दावेदार हैं.चार बार आस्ट्रेलियन ओपन अपने नाम कर चुके फेडरर ने गत वर्ष विम्बल्डन ओपन जीतकर साबित कर दिया है कि वह अब भी यह खिताब अपने नाम करने की काबिलियत रखते हैं.

इसके अलावा स्पेन के डेविड फेरर और चेक गणराज्य के टामस बेर्दिक छुपे रुस्तम साबित हो सकते हैं. चोट से जूझ रहे छठी सीड अर्जेंटीना के जुआन मार्टिन डेल पोत्रो शारीरिक रूप से फिट हो चुके हैं. वह 2009 में यूएस ओपन जीतने के बाद ग्रैंड स्लेम का अपना सूखा समाप्त करने को बेताब होंगे. महिला एकल की बात करें तो जबरदस्त फार्म में चल रही अमेरिका की सेरेना खिताब की प्रबल दावेदार मानी जा रही है. वर्ष 2003-2005, 2007, 2009 और 2010 में खिताब अपने नाम करने के बाद सेरेना इस बार छठी बार यह खिताब अपने नाम करने को बेताब हैं. गत वर्ष विम्बल्डन और यूएस ओपन अपने नाम करने के अलावा ओलंपिक पदक जीतने वाली सेरेना के हौंसले बुलंद हैं.

31 वर्षीय सेरेना ने अपने गत 36 मैचों में से 35 मैच जीते हैं और वह विम्बल्डन और यूएस ओपन के बाद आस्ट्रेलियन ओपन भी अपने नाम कर लगातार तीसरा और कुल 16वां ग्रैंड स्लेम जीतना चाहेंगी. गत चैंपियन और विश्व की नंबर वन खिलाडी बेलारूस की विक्टोरिया अजारेंका खिताब का बचाव करना चाहेंगी लेकिन सेरेना के खिलाफ उनका रिकार्ड बेहद खराब रहा है.

वह सेरेना के खिलाफ 11 मैच हार हारी है और मात्र एक मैच जीती हैं. दोनों खिलाडिय़ों का संभवत: सेमीफाइनल में मुकाबला होगा जिससे पार पाना अजारेंका के लिए बड़ी चुनौती होगा. गत वर्ष अजारेंका ने धमाकेदार शुरूआत की थी लेकिन इस बार उसे दोहरा पाना उनके लिए आसान नहीं होगा. अजारेंका को पैर की चोट के कारण हाल में ब्रिसबेन अभ्यास मैच में सेरेना के खिलाफ सेमीफाइनल से हटना पड़ा था. हालांकि 23 वर्षीय अजारेंका ने कहा कि अब वह फिट हैं.

विश्व नंबर दो खिलाडी रूस की मारिया शारापोवा को गत वर्ष टूर्नामेंट में अजारेंका से खिताबी भिडं़त में हार का सामना करना पडा था. वह भी चोटिल होने के कारण ब्रिसबेन में नहीं खेल पाई थीं. हालांकि रूसी खिलाडी ने भी गत शुक्रवार खुद को ग्रैंड स्लेम टूर्नामेंट में खेलने के लिए फिट घोषित कर दिया. वर्ष 2011 में आस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में जगह बनाने वाली और गत फ्रेंच ओपन चैंपियन चीन की ली ना भी सेरेना के लिए खतरा बन सकती हैं.

Related Posts: