सिलीगुड़ी 6 नवंबर. रिश्वतखोरों ने आर्ट ऑफ  लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर को भी नहीं छोड़ा. एक काम के एवज में उनसे कर्नाटक में रिश्वत मांगी गई थी. आध्यात्मिक गुरु ने रिश्वत मांगने वाले का नाम नहीं बताया.

रविवार को सिलीगुड़ी पहुंचे श्रीश्री ने पत्रकारों से कहा, दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत में भ्रष्टाचार का कैंसर अंतिम चरण में पहुंच गया है. हर व्यक्ति को प्रण करना होगा कि न घूस देंगे न लेंगे.न देंगे, तभी भ्रष्टाचार खत्म होगा. हर भारतीय को खासकर युवाओं को जागना होगा. तभी सशक्त लोकपाल आएगा. उन्होंने बाद में कंचनजंघा स्टेडियम में आशीर्वाद कार्यक्रम में लोगों को संबोधित किया. श्रीश्री ने कहा कि बंगाल विकास के पथ पर बढ़ रहा है. ममता बनर्जी के सत्ता में आने के बाद कुछ कारगर योजनाएं बन रही हैं. आर्ट ऑफ  लिविंग बंगाल में शत.प्रतिशत साक्षरता का हिमायती है. इसलिए संगठन की ओर से 40 से अधिक स्कूल दूरदराज के ग्रामीण क्षेत्रों में चलाए जा रहे हैं. श्रीश्री ने कहा, राजनीति में जब तक अच्छे और सेवा भाव से कार्य करने वाले लोग नहीं आएंगे, देश का विकास अवरुद्ध रहेगा.

Related Posts: