उत्सवों पर विकास की धनराशि की बर्बादी के खिलाफ ज्ञापनभोपाल, 1 नवंबर. म.प्र. के 56वें स्थापना के समारोह जैसे अप्रासंगिक उत्सवों पर भाजपा सरकार द्वारा विकास की करोड़ों की धनराशि की बर्बादी का कड़ा विरोध करते हुए प्रदेश कांग्रेस के एक प्रतिनिधि मंडल ने आज राजभवन में राज्यपाल रामनरेश यादव से मुलाकात कर उन्हें एक ज्ञापन सौंपा.

इस ज्ञापन में प्रदेश कांग्रेस के विकास को किसी प्रकार का समर्थन और बल नहीं मिलता वे गतिविधियां विकास की प्रक्रिया पर धीरे-धीरे हावी होती जा रही है. एक विकासशील प्रदेश के लिए यह चुनौतीपूर्ण गंभीर स्थिति है. प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष मानक अग्रवाल ने बताया है कि प्रतिनिधि मंडल में प्रदेश कांग्रेस के कार्यालय प्रभारी शांतिलाल पडियार संगठन प्रभारी कैप्टन जयपाल सिंह, मीडिया विभाग के अध्यक्ष मानक अग्रवाल, मीडिया प्रभारी प्रमोद गुगालिया, प्रवक्ताद्वय जे.पी. धनोपिया और अभय दुबे तथा प्रदेश सचिव द्वय दीप्ति सिंह तथा रवि सक्सेना शामिल थे. राज्यपाल ने ज्ञापन पर समुचित कार्यवाही करने का आश्वासन दिया. ज्ञापन में यह कहते हुए राज्यपाल से हस्तक्षेप की मांग की गई है कि अब प्रदेश में ऐसी स्थिति का निर्माण हो चुका है जिससे निपटने के लिए राज्यपाल का हस्तक्षेप अत्यंत आवश्यक हो गया है.

अग्रवाल ने बताया है कि राज्यपाल को सौंपे गए ज्ञापन में प्रामाणिक ताजा आंकड़ों के जरिए खुलासा किया गया है कि शिक्षा स्वास्थ्य, पोषण कानून व्यवस्था महिला बाल कल्याण, खेती आदि क्षेत्रों में म.प्र. देश के अन्य राज्यों की तुलना में बदतर स्थिति में पहुँच चुका है. आई.पी.सी. अपराधों, बलात्कार और बाल अपराध के मामले में म.प्र. नंबर 1 पर है. राज्य में 60 प्रतिशत से अधिक बच्चे कुपोषण तथा 76 प्रतिशत बच्चियां खून की कमी की शिकार है. शिक्षा के क्षेत्र में भी म.प्र. बहुत पीछे है. चौकाने वाली बात तो यह है कि पूरे देश में सबसे अधिक भूखमरी म.प्र. में है. भारत के राष्टï्रपति को सौंपी गई ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की रिपोर्ट में बताया गया है कि देश में मध्यप्रदेश सर्वाधिक भ्रष्टï राज्य है. मीडिया विभाग के अध्यक्ष ने ज्ञापन में उल्लेखित तथ्यों का ब्यौरा देते हुए आगे बताया है कि भाजपा सरकार के सात वर्ष के कार्यकाल में सरकार की उपेक्षा से त्रस्त 10 हजार से अधिक किसान आत्महत्या कर चुके है. ज्ञापन में आरोप लगाया गया है कि प्रजातंत्र के सभी आदर्श सिद्घांतों को तिलांजलि देकर भाजपा सरकार निजी स्वार्थो की पूर्ति और बड़े पैमाने पर सरकारी खर्च से मुख्यमंत्री की छवि बनाने के लिए काम कर रही है.

Related Posts: