भोपाल, 28 नवंबर. अखिल भारती स्वदेशी संघ के तत्वावधान में राष्ट्रीय स्वदेशी महाउत्सव-11 में हस्सा ले रहे 2 लाख से अधिक बच्चों में से चयनित विद्यालयों के सैकड़ों बच्चों ने स्वदेशी संत राजेश पोरवाल एवं संगठन प्रमुख राजेश शर्मा के सानिध्य में गायत्री शक्तिपीठ के प्रांगण में एकत्रित बच्चों ने प्रदर्शन कर खिलाडिय़ों एवं फिल्मी कलाकारों को सख्त लहजे में चेताते हुये नारे जोशी-खरोश से लगाते हुये आकाश गुंजायमान कर दिया.

ऐसा लग रहा था कि बच्चे किसी क्रांति का आह्वïन कर रहे हों. बच्चे अब अपने एवं देश के स्वास्थ्य के साथ बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के लुभावने झूठे विज्ञापन एवं उत्पादों की हकीकत को समझ रहे हैं. इस अवसर पर उनके हाथों में खिलाडिय़ों एवं अभिनताओं तथा अभिनेत्रियों की निम्न उत्पाद पीते एवं खाने वाली तख्तियां लिये हुये थे. गांधीगिरी तरीके से उन्होंने तस्वीरों को पुष्पगुच्छ भेंट किये. बच्चों ने प्रदर्शन कर अपना मासूम जनादेश सरकार को देते हुये अपील की कि इन झूठे विज्ञापनों एवं मिलावटी अस्वास्थ्यवर्धक चीजों पर तुरंत प्रतिबंध लगवाये.

इसके बाद बच्चे विधानसभा की ओर प्रस्थान कर गये.राष्ट्रीय स्वदेशी महाउत्सव-11 के प्रथम चरण में लिखित प्रतियोगिता में विद्यार्थी विधानसभा अध्यक्ष ईश्वरदास रोहाणी के विधिसम्मत आमंत्रण पर सोमवार को विधानसभा का अवलोकन करने एवं जनप्रतिनिधियों की विधानसभा में भूमिका को प्रत्यक्ष देखने सुबह 10.30 बजे पहुंचने के पूर्व विद्यालयीन बच्चे देश के शासकों, अभिनेताओं एवं खिलाडिय़ों तथा उद्योगपतियों को दैनंदनी जीवन में अपने स्वास्थ्य एवं जीवन तथा भारतीय संस्कृति से हो रहे खिलवाड़ के प्रति सचेत करने एवं तुरंत पुख्ता व्यवस्था करने के लिये गांधीगिरी तरीके से प्रदर्शन कर एक सांकेतिक मासूम जनसंदेश दे गये. वे वहां अध्यक्ष से रूबरू होकर सवाल-जवाब भी करेंगे.

Related Posts:

हत्याकांड का आरोपी पहुंचा जेल
दस सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन एवं धरना
अविश्वास प्रस्ताव की चर्चा में विजयवर्गीय की टिप्पणी से हंगामा
शिक्षा से जीवन का अंधकार दूर होता है: राज्यपाल
व्यापमं में हैरतअंगेज कारनामा : वन रक्षक परीक्षा में रात को क्वालीफाई, सुबह बाहर
अजय सिंह मध्यप्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष बने