इस्लामाबाद, 26 मई. पाकिस्तान की सरकार ने शनिवार को फैसला किया कि प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी को अदालती अवमानना के मामले में दोषी करार दिए जाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील नहीं की जाएगी।

गिलानी के वकील एतजाज अहसन ने बताया कि अदालती अवमानना के मामले में प्रधानमंत्री गिलानी को दोषी करार दिए जाने के खिलाफ अपील दायर नहीं की जाएगी। इस फैसले से दो दिन पहले पाकिस्तानी संसद के निचले सदन की स्पीकर ने गिलानी को बतौर सांसद आयोग्य ठहराने से इंकार किया था। आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि गिलानी और उनके प्रमुख कानूनी एवं राजनीतिक सलाहकारों ने कल सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर चर्चा की तथा अपील नहीं दायर करने का फैसला किया। इस मामले में अपील दायर करने की समयसीमा आज दोपहर खत्म हो रही है। बीते 26 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें दोषी करार दिया था। राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामलों को फिर से खोलने के आदेश पर अमल नहीं करने को लेकर गिलानी को अदालती अवमानना का दोषी करार दिया गया।

कुरैशी मामले में चीन की महिला हिरासत में

बीजिंग. चीन की एक महिला को पिछले सप्ताह भारतीय कारोबारी मुहम्मद दानिश कुरैशी के यिवू शहर में हुए अपहरण के मामले में हिरासत में लिया गया है।

महिला का उपनाम वांग है। उसने पैसे के लेन देने के मामले में कुरैशी को गत 19 मई को अगवा किया था। सरकारी संवाद समिति शिन्हुआ ने स्थानीय पुलिस के हवाले से कहा वांग और उसके ब्वॉयफ्रेंड ने कुरैशी को बीते सोमवार से अपने घर में अवैध रूप से बंधक बनाकर रखा था। कुरैशी को गत 23 मई को छुड़ा लिया गया है। कुरैशी मुंबई के व्यवसायी फैजल के लिए काम करता था, जिस पर वांग की बड़ी रकम बकाया थी।

फैजल उसे वापस नहीं कर रहा था। वर्ष 2009 के दौरान फैजल ने वांग और उसके एक सहयोगी के जरिए यिवू से सामान की खरीद-फरोख्त की थी। यिवू विश्व की सबसे बड़ी थोक मार्किट है। इसके बाद वांग ने फैजल से ई-मेल और फोन के जरिए कई बार संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन फैजल ने कोई जवाब नहीं दिया। वांग को जब पता चला कि फैजल ने कुरैशी को यिवू भेजा है, तो वह कुरैशी के पास अपना बकाया मांगने गई, लेकिन उसने भी उसकी बात को अनसुना कर दिया। इसके बाद वांग ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपनी बकाया राशि हासिल करने के लिए कुरैशी को अगवा कर लिया।

Related Posts: