लंदन,23 अगस्त. भारत के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर और रवि शास्त्री ने इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला में भारत के 0-4 से सफाये पर हैरानी जताते हुये कहा है कि पूरी श्रृंखला में भारतीय टीम एक बार भी संघर्ष करती नहीं दिखाई दी और ऐसा लग रहा था कि जैसे वह आत्मसमर्पण के लिये ही यहां आई हो.

लिटिल मास्टरट ने कहा, पूरी श्रृंखला में भारतीय टीम का प्रदर्शन निराशाजनक रहा. वह जब यहां आयी थी तो सबने सोचा था कि यह श्रृंखला देखने लायक होगी. हमने सोचा था कि दोनों तरफ दिग्गज टीमें हैं तो कड़ी टक्कर देखने को मिलेगी, लेकिन भारतीय टीम तो जैसे आत्मसमर्पण के लिये तैयार बैठी थी. उन्होंने कहा, भारतीय टीम यहां नंबर एक के तमगे के साथ आयी थी, लेकिन अपने बेहद खराब प्रदर्शन के कारण उसने अपनी जगह भी गंवा दी.

गावस्कर ने कहा, भारतीय टीम ने एक बार भी संघर्ष की कोशिश नहीं की. हारना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन अगर एक बार भी उसने अपनी जगह बचाने की कोशिश की होती तो वह इतने बड़े अंतर से नहीं हारती. श्रृंखला को 0-4 से हारना नंबर एक टीम की प्रतिष्ठा के अनुरूप कतई नहीं है. उन्होंने कहा, भारतीय टीम का नकारात्मक नजरिया और उसमें आक्रमक तेवर की कमी भी इस हार की वजह हो सकती है.

गावस्कर के सुर में सुर मिलाते हुये शास्त्री ने कहा, इस हार के पीछे कई वजह हो सकते हैं. खिलाडिय़ों का घायल होना, टीम का फार्म में न होना भी हार के कारण हो सकते हैं. पूर्व ऑलरांउडर ने कहा, अब इस हार का शोक मनाने के बजाय हमें इसकी समीक्षा करके नयी रणनीति बनानी होगी. इसके लिये ट्वेंटी-20, एकदिवसीय और टेस्ट मैचों के लिये खिलाडिय़ों का कोर समूह तैयार करने की जरूरत है. ऐसा करके हम छह से आठ महीने में अपनी जगह वापस पा लेंगे.

कारण बताने में लग जाएंगे आधे घंटे

किसी भी विवादास्पद सवाल को बखूबी टालने के लिए पहचाने जाने वाले भारतीय टीम की दीवार राहुल द्रविड़ ने इंग्लैंड के खिलाफ चार मैचों की सीरीज 0-4 से गंवाने के बाद सिर्फ एक पंक्ति में सीरीज में भारत की दुर्दशा की कहानी बयां कर दी.

द्रविड़ को सीरीज में भारत की ओर से सर्वाधिक 461 रन बनाने के लिए मेहमान टीम का मैन आफ द सीरीज चुना गया. उनसे जब भारत के हार के कारणों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, इसे बताने में आधा घंटा लग सकता है. सीरीज में सर्वाधिक तीन शतक जडऩे वाले द्रविड़ ने हालांकि मेजबान टीम को पूरा श्रेय दिया. उन्होंने कहा, इंग्लैंड को बधाई. उन्होंने सीरीज में बेहतरीन खेल दिखाया और हमें कोई मौका नहीं दिया. उन्होंने कहा, हमें मुश्किल सीरीज की उम्मीद थी लेकिन हम अच्छा प्रदर्शन नहंी कर पाए जिसकी काफी निराशा है. हम इससे सबक लेकर आगे अच्छा प्रदर्शन करने की कोशिश करेंगे. द्रविड़ ने साथ ही कहा कि वेस्टइंडीज सीरीज से उन्हें लय में आने में काफी मदद मिली. उन्होंने वेस्टइंडीज में भी शतक जड़ा था. यह पूछने पर कि क्या वह दोबारा इंग्लैंड खेलने आएंगे, द्रविड़ ने हंसते हुए कहा, मैं एक बार में एक सीरीज पर ही ध्यान दे रहा हूं.

Related Posts: