नई दिल्ली, 13 जुलाई. टाटा मोटर्स के चेयरमैन रतन टाटा ने कहा है कि वाणिज्यिक वाहनों के क्षेत्र में कंपनी के दबदबे को मर्सीडीज बेंज, वोल्वो तथा नवीस्टार जैसी वैश्विक कंपनियों से चुनौती मिलेगी.

टाटा ने कहा कि हालांकि, कंपनी प्रतिस्पर्धा का मुकाबला करने के लिये कम ईंधन खपत करने वाला वाणिज्यिक वाहनों का विकास कर रही है. उन्होंने कहा कि कार खंड में शुरुआती संघर्ष के बावजूद कंपनी की छोटी कार नैनो भारत में आकर्षण का केंद्र बनी रहेगा. इस प्रकार की सस्ती कार के लिये विकासशील देशों में काफी संभावना है. कंपनी की 2011-12 की सालाना रिपोर्ट में शेयरधारकों को संबोधित करते हुए टाटा ने कहा कि आने वाले साल में टाटा मोटर्स के वाणिज्यिक वाहनों में दबदबे को मर्सीडीज बेंज, वोल्वो तथा नवीस्टार जैसी वैश्विक कंपनियों से चुनौती मिलेगी. हालांकि, उन्होंने कहा कि कंपनी नये उत्पादों के साथ चुनातियों को सामना करने के लिये तैयार हो रही है. टाटा ने कहा कि कंपनी प्रतिस्पर्धा का मुकाबला करन

े के लिये कम ईंधन खपत करने वाले वाणिज्यिक वाहनों का विकास कर रही है.

वित्त वर्ष 2011-12 में टाटा मोटर्स की घरेलू वाणिज्यिक वाहनों में बाजार हिस्सेदारी 58.45 प्रतिशत के साथ 8,09,532 इकाई थी. इसके बाद घरेलू कंपनियों महिंद्रा एंड महिंद्रा (15.69 प्रतिशत) तथा अशोक लेलैंड (11.01 प्रतिशत) का स्थान था. यात्री कार खंड के बारे में टाटा ने कहा कि इस क्षेत्र में कड़ी प्रतिस्पर्धा होगी. उन्होंने कहा कि यात्री कार खंड में टाटा मोटर्स को किसी भी अन्य वाहन कंपनी के मुकाबले कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा.  दिसंबर में 100 अरब डॉलर के समूह टाटा संस के चेयरमैन पद से सेवानिवृत्त हो रहे टाटा ने कहा कि टाटा मोटर्स को अपनी मजबूत बाजार हिस्सेदारी फिर से हासिल करने के लिये ज्यादा प्रभावी तरीके से अपने मौजूदा तथा भविष्य के उत्पादों को आगे बढ़ाना होगा. नैनो के बारे में उन्होंने कहा कि नैनो को 2008 में पेश किया गया. शुरू में पश्चिम बंगाल में कंपनी को समस्या हुई. लेकिन यह कार बिक्री तथा सर्विस नेटवर्क के जरिये भारतीय बाजार में अपने को स्थापित करना जारी रखेगी. टाटा ने कहा कि इस प्रकार की सस्ती कार के लिये विकासशील देशों में काफी संभावना है.

zp8497586rq

Related Posts: