मुंबई, 23 नवंबर. देश के सबसे प्रतिष्ठित औद्योगिक घरानों में शुमार टाटा समूह की मुख्य कंपनी टाटा सन्स के प्रमुख रतन टाटा के उत्तराधिकारी के तौर पर युवा निदेशक साइरस पलोनजी मिस्त्री (42) को चुना गया है.

खुद रतन टाटा ने बुधवार को सायरस के नाम का ऐलान किया। सायरस को टाटा संस का डिप्टी चयरमैन नियुक्त किया गया है। टाटा दिसम्बर 2012 में रिटायर होंगे, इसके बाद सायरस उनका पद संभालेंगे। सायरस के साथ साल भर मिलकर काम करेंगे टाटा। सायरस 2006 में बोर्ड के मेम्बर चुने गए थे। गौरतलब है कि मिस्त्री के परिवार की टाटा सन्स में सबसे अधिक हिस्सेदारी है और उनकी नियुक्ति के पीछे इसे एक बड़ी वजह के रूप में देखा जा रहा है। हालांकि मिस्त्री अगस्त 2006 से ही टाटा सन्स के निदेशक मंडल में शामिल थे। वैसे मिस्त्री के नाम को मंजूरी पांच सदस्यीय पैनल ने दी है जिसका गठन निदेशक मंडल ने टाटा के उत्तराधिकारी की तलाश के लिए किया था।

गत मई में इस पैनल ने कई लोगों के साक्षात्कार भी लिए थे जिनमें टाटा समूह के बाहर के भी कुछ लोग शामिल थे। लेकिन अंत में टाटा सन्स के एक युवा निदेशक को ही देश के इस सबसे पुराने औद्योगिक समूह की कमान सौंपने का निर्णय लिया गया। कमेटी में लार्ड भट्टचार्य, शिरीन भरूचा, आर.के. कृष्णकुमार, एन.ए. सूनावाला, साइरस मिस्त्री शामिल थे। टाटा ने भी मिस्त्री की तारीफ करते हुए कहा कि निदेशक मंडल में उनके साथ काम करते समय मैं उनके सटीक आकलन, सक्रिय हिस्सेदारी और उनकी विनम्रता से काफी प्रभावित हुआ हूं। मैं उनके साथ काम करके उन्हें समूह की जिममेदारियों को संभालने लायक अनुभव प्रदान करने में अपनी तरफ से पूरी मदद करूंगा। मिस्त्री की उच्च शिक्षा लंदन में हुई है। वह लंदन के इम्पीरियल कालेज से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक होने के अलावा लंदन बिजनेस स्कूल से प्रबंधन में मास्टर्स भी हैं। उधर, सायरस मिस्त्री ने डिप्टी चेयरमैन चुने जाने के बाद कहा कि यह मेरे लिए सौभाग्य की बात है। हितों के टकराव से बचने के लिए वे पारिवारिक कंपनियों से अलग होंगे। ज्ञातव्य है कि सायरस मिस्त्री टाटा संस के सबसे बड़े शेयर शेयरधारक पलोनजी मिस्त्री के बेटे हैं तथा वे शापुरजी पलोनजी के प्रमुख भी हैं।

सबसे युवा मेंबर

मालूम हो कि 42 वर्षीय साइरस टाटा संस बोर्ड के सबसे युवा सदस्य हैं। टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस ने रतन टाटा के उत्तराधिकारी की खोज के लिए पिछले साल अगस्त में एक समिति का गठन किया था। इस दौरान रतन टाटा के उत्तराधिकारी काफी तलाश जारी रही और अब जाकर साइरस मिस्री को टाटा रुप का नया बॉस चुना गया। दिसंबर 2012 में 75 साल के होने पर रतन टाटा और अपने पद से इस्तीफा दे देंगे।

Related Posts: