नई दिल्ली, 5 जुलाई. दिल्ली पुलिस ने टीम अन्ना को 25 जुलाई से जंतर-मंतर पर अनशन की इजाजत नहीं दी है। टीम अन्ना ने दिल्ली पुलिस से 25 जुलाई से 8 अगस्त तक अनशन की इजाजत मांगी थी, जिसे पुलिस ने नामंजूर कर दिया।

दिल्ली पुलिस ने यह कहते हुए अनशन की इजाजत देने से इनकार कर दिया कि प्रदर्शन की तारीख संसद के मॉनसून सत्र के साथ टकरा रही है जब अन्य संगठनों को भी यहां जगह देनी होगी। टीम अन्ना को लिखे गए पत्र में दिल्ली पुलिस ने कहा है कि पूरे साल जंतर मंतर पर बड़ी संख्या में संगठन प्रदर्शन करते हैं। भूख हड़ताल के प्रस्तावित समय के दौरान संसद का मॉनसून सत्र चल रहा होगा और उस दौरान जंतर मंतर पर विभिन्न संगठनों को धरने प्रदर्शन के लिए जगह देनी होती है।

इसमें कहा गया है, इस स्थान पर लोगों के बैठने की सीमित व्यवस्था है और इसी को ध्यान में रखते हुए सभी लोगों को स्थान आवंटित किया जाता है। प्रत्येक संगठन को सीमित संख्या में समर्थकों के साथ आने की अनुमति दी जाती है। भारी संख्या में भीड़ जुटने से भगदड़ और अन्य सुरक्षा से संबंधित मसले सामने आ सकते हैं। पत्र में यह भी कहा गया कि इसके लिए विशेष सुरक्षा इंतजामात की जरूरत होगी और सीमित क्षमता वाले जंतर मंतर पर इससे अतिक्ति दबाव होगा। यह नियमित आवाजाही का मार्ग है और इसे लंबे समय तक बंद नहीं किया जा सकता।

इस स्थिति को देखते हुए 25 जुलाई से 8 अगस्त तक जंतर मंतर पर अनशन की अनुमति नहीं दी जा सकती। ‘ साथ ही दिल्ली पुलिस ने कहा कि टीम अन्ना किसी अन्य स्थान के लिए पुलिस से संपर्क कर सकती है।

आर पार के मूड में टीम अन्ना

उधर, टीम अन्ना आर-पार के मूड पर है। दिल्ली पुलिस से अनशन की इजाजत न मिलने पर टीम अन्ना ने कहा कि चाहे जो भी हो अनशन जंतर मंतर पर ही होगा। टीम अन्ना का कहना है कि अनशन या तो जंतर मंतर पर होगा या फिर जेल में। अरविंद केजरीवाल ने ट्विटर पर कहा,  पुलिस ने हमें 25 जुलाई को जंतर-मंतर पर अनशन की इजाजत नहीं दी है। वजह बताई गई कि है कि संसद सत्र चल रहा होगा। क्या सांसद जनता से डरते हैं वे जनता से कितनी दूर रहना चाहते हैं संसद और सांसद जनता से ही डरने लगें, तो यह लोकतंत्र के लिए खतरनाक है। दरअसल इसके पीछे पी. चिदंबरम हैं। करप्शन के आरोपों से घिरे 15 मंत्रियों में से वह एक हैं। वह कभी नहीं चाहेंगे कि अनशन हो। दरअसल अनशन उनके और दूसरे करप्ट मंत्रियों के खिलाफ है। जनता इसे बर्दाश्त नहीं करेगी। अनशन या तो जंतर-मंतर या फिर जेल में होगा।

अनशन की तैयारी

टीम अन्ना इन दिनों अनशन की जोर-शोर से तैयारियां कर रही है। इसके लिए दिल्ली और एनसीआर में कई पब्लिक मीटिंग रखी गई हैं। शुक्रवार से टीम अन्ना इन जनसभाओं को संबोधित करेगी। इन जनसभाओं को अरविंद केजरीवाल, किरन बेदी, प्रशांत भूषण, मनीष सिसौदिया, कुमार विश्वास आदि संबोधित करेंगे। गौरतलब है कि टीम अन्ना ने यूपीए सरकार पर भ्रष्टाचार मसले, सशक्त लोकपाल विधेयक लाने में कथित रूप से विफल रहने और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनके 14 मंत्रिमंडल सहयोगियों के खिलाफ विशेष जांच दल बनाने की मांग को लेकर अनिश्चितककालीन अनशन की घोषणा की थी।

Related Posts: