• सेना प्रमुख वीके सिंह की चिट्ठी में खुलासा

नई दिल्ली, 31 मार्च. सेना प्रमुख जनरल वी.के. सिंह ने रिश्वत की पेशकश के संबंध में सीबीआई को भेजी गई शिकायत में रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल तेजिंदर सिंह का नाम लिया है। जनरल सिंह ने इस मामले में शुक्रवार की देर शाम अपनी शिकायत सीबीआई को भेज दी थी। उस वक्त यह स्पष्ट नहीं था कि उन्होंने तेंजिदर सिंह का नाम लिया है या नहीं।

हालांकि, जनरल सिंह ने घूस की रकम का जिक्र नहीं किया है। संभवत: सोमवार को इस मामले में सेना प्रमुख और जानकारी मुहैया कराएंगे। इससे पहले केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने साफ किया है कि सरकार और जनरल के बीच कोई मतभेद नहीं हैं। कोलकाता में पत्रकारों से बातचीत में मुखर्जी ने यह भी कहा कि रक्षा मंत्री ए. के. एंटनी ने इस मसले पर संसद में अपना पक्ष रख दिया है।  इसके पहले शुक्रवार को आर्मी चीफ वी. के. सिंह ने अपने तेवर कुछ नरम किए। उन्होंने कहा कि कुछ शरारती तत्व उनके और रक्षा मंत्री ए. के. एंटनी के बीच दरार पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने अपने बयान में कहा है कि वह देश की सेवा करने को प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि सेना सरकार का अंग है। वह सरकार से अलग नहीं। उन्होंने कहा कि सरकार और उनकी, दोनों की कोशिश है कि सेना से गलत लोगों को बाहर निकाला जाए। जनरल सिंह ने सफाई देते हुए कहा है कि उनके और रक्षा मंत्री के बीच दरार की जो बातें फैलाई जा रही हैं वे गलत हैं। हर मसले को उनके और रक्षा मंत्री के बीच लड़ाई के तौर पर प्रचारित किया जाना दुर्भावनापूर्ण है। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्री के साथ मिलकर इस मामले में आगे की कार्रवाई की जाएगी।

टैट्रा ट्रक शानदार : सारस्वत

डीआरडीओ प्रमुख वीके सारस्वत का कहना है कि टैट्रा ट्रकों का कार्य प्रदर्शन बेहद शानदार है। उन्होंने कहा कि अगर रक्षा मंत्री और सेनाध्यक्ष के बीच कोई मतभेद हैं तो उन्हें सावधानीपूर्वक सुलझाना चाहिए।  सारस्वत ने  कहा कि ये ट्रक हथियारों को तेज गति से ले जाने में सक्षम हैं। उन्होंने कहा कि पृथ्वी और अग्नि जैसी सभी महत्वपूर्ण मिसाइलों को ले जाने में प्रयुक्त हुआ कोई भी वाहन घटिया दर्जे का नहीं था। उन्होंने कहा कि इन ट्रकों में किसी भी प्रकार की कोई शिकायत नहीं पाई गई, फिर इन्हें घटिया कैसे कहा जा सकता है। डीआरडीओ चीफ ने कहा कि इन ट्रकों की आगे भी जरूरत पड़ी तो हम इनका प्रयोग करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर सरकार की तरफ से इनका प्रयोग रोकने संबंधी कोई आदेश मिलता है तो हम इनका प्रयोग नहीं करेंगे।

‘आर्मी चीफ और सरकार में मतभेद नहीं’

कोलकाता. सरकार और सेना के बीच संबंधों के बचाव में अब कांग्रेस के संकटमोचक कहे जाने वाले मंत्री प्रणब मुखर्जी आ गए हैं।  वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शनिवार को कहा कि सरकार व सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह के बीच कोई मतभेद नहीं है। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्री ने इस मामले में अपना पक्ष रख दिया है। केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने सेना प्रमुख जनरल वी के सिंह और सरकार के बीच चल रहे मतभेदों को ज्यादा महत्व नहीं देने की कोशिश की।

Related Posts: