12 लोग घायल, पांच की हालत नाजुक

इलाहाबाद, 23 मई.  शहर की घनी आबादी करेली बुधवार को अपराह्न धमाके से दहल गई. सी ब्लाक स्थित झुग्गी झोपड़ी में हुए इस धमाके में आठ लोगों की मौत हो गई, जिसमें सात बच्चे शामिल हैं. इसमें एक महिला व उसके पुत्र-पुत्री भी हैं, जबकि 12 लोग घायल हुए हैं. इसमें पांच की हालत नाजुक बनी हुई है.

घायलों को स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल और मोतीलाल नेहरू अस्पताल (काल्विन) में भर्ती कराया गया है. बम इतना शक्तिशाली था कि लोगों के शरीर के मांस के टुकड़े दीवारों पर चिपक गए. सूचना पाकर डीआइजी, डीएम, एसएसपी समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे. जांच पड़ताल में अभी तक ग्रेनेड फटने की बात सामने आ रही है, हालांकि पूरी छानबीन की बाद ही स्थिति स्पष्ट हो होगी. वहीं प्रशासन ने अभी तक तीन के मरने की पुष्टि की है. सी ब्लाक करेली स्थित नाले के पास करीब 60 झुग्गी झोपड़ी है. इसमें करीब 250 लोग रहते हैं. सभी कबाड़ बीनने का काम करते हैं. बुधवार अपराह्न करीब 3.45 बजे अचानक आलम उर्फ मोनू की झोपड़ी के बाहर तेज धमाका हुआ.  हर तरफ धुआं था और बस्ती में चीख पुकार मची थी. धुआं हटा तो 18-20 लोग जमीन पर तड़प रहे थे. आनन-फानन में घायलों को स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल और मोतीलाल नेहरू अस्पताल ले जाया गया, जहां आठ की मौत हो गई.

जांच पड़ताल के बाद पुलिस अधिकारियों ने कहा कि झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले लोग कबाड़ का काम करते हैं. संभवत: कहीं से उनको ग्रेनेड मिल गया था और उसका पीतल निकालते समय वह फट गया, जिससे हादसा हुआ. हालांकि, पूरी जांच पड़ताल के बाद ही स्पष्ट तौर पर ही किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है. उधर, एक बिल्डर से विवाद की बात भी सामने आ रही है. बस्ती में रहने वाली महिलाओं ने आरोप लगाया कि एक बिल्डर काफी समय से बस्ती को खाली कराने की कोशिश कर रहा था. आशंका जताई कि उसी ने धमाका कराया है. इस संबंध में डीएम अनिल कुमार का कहना है कि अभी तक धमाके में तीन की मौत की पुष्टि हुई है. आगे जांच जारी है और इसके बाद मृतकों को मुआवजा दिलाया जाएगा. धमाका कैसे हुआ, इस बारे में हर बिंदु को खंगाला जा रहा है.

Related Posts: