• सामने आया पाक का दोहरा चेहरा

जमात उद दावा के खिलाफ नहीं हैं सबूत : मलिक

आदू (मालदीव), 10 नवंबर. पाकिस्तान ने पहली बार कहा है कि अजमल कसाब आतंकवादी है और उसे फांसी पर लटका देना चाहिए।  साथ ही पाक ने कहा कि जुडिशल कमिशन की भारत यात्रा से मुंबई हमले से जुड़े मुकदमों को शीघ्र निपटाने में मदद मिलेगी। द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा के लिए दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच मुलाकात के दौरान पाकिस्तानी गृह मंत्री रहमान मलिक ने कहा पाक सरकार जुडिशल कमिशन की भारत यात्रा का इंतजार कर रही है पाकिस्तान द्वारा जमात उद दावा को आतंकी सूची से हटाए जाने के बारे में मलिक का कहना था सूचना सबूत नहीं होती और संगठन को आतंकी सूची में रखने के लिए ठोस कानूनी सुबूतों की दरकार है।

गिलानी अमन पसंद व्यक्ति : पीएम

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पाकिस्तान के उनके समकक्ष युसुफ रजा गिलानी की तारीफ के पुल बाधते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि मैंने प्रधानमंत्री गिलानी को हमेशा अमन पसंद व्यक्ति के तौर पर देखा। गिलानी ने कहा कि बैठक में कश्मीर, सर क्रीक और व्यापार सहित तमाम मूल द्विपक्षीय मामलों पर चर्चा की गई।

तारीफ पर बीजेपी का ऐतराज – प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ रजा  गिलानी को ‘अमन पसंद व्यक्ति’ बताए जाने पर भाजपा ने सख्त ऐतराज करते हुए गुरुवार को कहा कि देश की जनता को यह टिप्पणी हजम नहीं होगी, क्योंकि पड़ोसी देश भारत के खिलाफ अभी भी सीमा पार आतंकवाद को प्रायोजित कर रहा है। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री यशवंत सिन्हा ने आरोप लगाया कि पाकिस्तान ने अभी तक मुंबई आतंकी हमले सहित सीमा पार से की गई किसी भी आतंकी वारदात के दोषियों के विरूद्ध कोई कार्रवाई नहीं की है। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री ने मालदीव में दक्षेस शिखर सम्मेलन में गिलानी को अमन पसंद व्यक्ति बता कर गलती की है। भारत और पाकिस्तान के बीच मुख्य मुद्दा सीमा पार आतंकवाद है और इस सिलसिले में पाकिस्तान ने ऐसा कुछ नहीं किया है जिससे ऐसा आभास हो कि वह अपनी धरती से भारत के विरूद्ध चलाई जा रही आतंकी हरकतों को रोकने के लिए गंभीर है। पाकिस्तान से अभी वार्ता बहाल करने को सही कदम नहीं बताते हुए उन्होंने कहा, ‘हम सब जानते हैं कि सईद और आईएसआई आतंकी गतिविधियों में शामिल हैं और तमाम दुनिया में इसके दस्तावेजी सुबूत हैं।

Related Posts: