मुख्य सचिव ने की परख में योजनाओं की समीक्षा

भोपाल,17 मई,नभासं. मुख्य सचिव आर. परशुराम ने प्रदेश में पीने के पानी के समुचित प्रबंध के लिए कलेक्टरों-कमिश्नरों को व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि पेयजल की दृष्टि से समस्याग्रस्त क्षेत्रों में तत्काल जरुरी इंतजाम किए जाएं.

मुख्य सचिव ने आज मासिक वीडियो कान्फ्रेन्सिंग परख में ये निर्देश दिए. कार्यक्रम में गेहूँ उपार्जन, किसानों के लिए पर्याप्त खाद एवं उर्वरक की व्यवस्था, विद्यार्थियों के लिए गणवेश व्यवस्था सुनिश्चित के निर्देश भी दिए गए. पेयजल प्रबंध परख में बताया गया कि प्रदेश में अभी तक जिलों की मांग अनुसार पेयजल परिवहन के लिए कुल 19 करोड़ 45 लाख रुपए मंजूर किए गए हैं. इनमें ग्रामीण क्षेत्र के लिए 2 करोड़ 24 लाख रुपए तथा शहरी क्षेत्र के लिए 17 करोड़ 21 लाख रुपए शामिल हैं. परख में सचिव मुख्यमंत्री एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री एस.के.मिश्रा ने बताया कि प्रदेश में कुल 4 लाख 47 हजार 918 हेंडपम्प है.

इनमें से करीब आठ हजार बिगड़ी दशा में हैं. इन्हें ठीक करवाया जा रहा है. प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एस.पी.एस परिहार ने गढ़ी मलहरा (छतरपुर) की पेयजल व्यवस्था के लिए 40 लाख रुपए की निधि मंजूर करने की जानकारी दी. गेहूँ उपार्जन और भंडारण-मुख्य सचिव परशुराम ने प्रदेश में गेहूँ उपार्जन अभियान की जानकारी भी प्राप्त की. उन्होंने उपार्जित गेहूँ के परिवहन, भंडारण के साथ ही किसानों को यथा समय राशि के भुगतान के संबंध में निर्देश दिए. अपर मुख्य सचिव खाद्य श्री अंटोनी डिसा ने बताया कि प्रदेश में लगभग साठ लाख मीट्रिक टन गेहूँ खरीदा जा चुका है तथा पर्याप्त बारदाना उपलब्ध करवाने का कार्य पूरी प्राथमिकता से किया जा रहा है. आज रात्रि अथवा कल सुबह तक निशातपुरा और सागर में दो रैक पहुँच रही हैं. कोलकाता से भी एक अन्य रैक जल्द ही पहुँच रही है. उद्योग विभाग के सहयोग से प्लास्टिक बैग मिलने लगे हैं. परख में कमिश्नरों ने संभागवार गेहूँ उपार्जन इंतजामों का विवरण दिया.

निर्धन बच्चों को प्रायवेट स्कूलों में प्रवेश
आयुक्त राज्य शिक्षा केंद्र अशोक वर्णवाल ने कलेक्टरों को निजी विद्यालयों में निर्धन विद्यार्थियों के प्रवेश के कार्य की गति बढ़ाने की जरुरत बताई. प्रदेश में इस योजना में इस वर्ष 73 हजार विद्यार्थियों के प्रवेश कराए जा चुके हैं.

पशुचारे की व्यवस्था
परख में जानकारी दी गई कि प्रदेश के बुंदेलखंड अंचल में पशुपालन विभाग द्वारा सागर, टीकमगढ़ और पन्ना में तीन फॉडर बैंकों की स्थापना कर ली गई है. प्रदेश में पर्याप्त पशुचारा उपलब्ध है और जिलों में आवश्यकता के मुताबिक चारे का भंडारण भी कर लिया गया है.

स्वास्थ्य महकमा सजग रहे
मुख्य सचिव ने कलेक्टरों को मलेरिया और अन्य रोगों की रोकथाम के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों से नियमित रिपोर्ट लेने के निर्देश दिए. रोकथाम के प्रयासों के साथ ही बुखार एवं मलेरिया से प्रभावित नागरिकों के उपचार के लिए समुचित प्रबंध करने के निर्देश भी दिए गए. मुख्य सचिव ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में डिपो स्तर पर जरुरी दवाएँ उपलब्ध रहें, यह सुनिश्चित किया जाए. प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य प्रवीर कृष्ण ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में रोग की जानकारी मिलते ही अविलंब स्वास्थ्य दलों को भिजवाने की व्यवस्था की गई है.

भूले-बिसरे सेनानियों और स्मारकों का संरक्षण
मुख्य सचिव परशुराम ने अनुकम्पा नियुक्ति के चार लंबित प्रकरणों का अगली परख के पूर्व निराकरण करने के निर्देश दिए. परख में माता-पिता भरण पोषण अधिनियम 2007 के तहत जिलों में सुलह अधिकारी नियुक्त करने, जनश्री और आम आदमी बीमा योजना के क्रियान्वयन,जनता की शिकायतों के निवारण के लिए विभागवार की गई कार्यवाही, अवैध खनिज गतिविधियों पर नियंत्रण , सुचारु विद्युत प्रदाय एवं अंत्योदय मेलों के आयोजन के संबंध में भी चर्चा हुई.

Related Posts: