आडवाणी ने गडकरी के खिलाफ खोला मोर्चा

नयी दिल्ली, 31 मई.भाजपा के शीर्षस्तंभ लालकृष्ण आडवाणी ने आज पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी के खिलाफ तथ्यात्मक हमला कर न सिर्फ भाजपा के अंदर बल्कि राजनीति में भूचाल ला दिया है. श्री आडवाणी के ब्लॉग में जिस प्रकार श्री गडकरी के फैसलों को चुनौती दी गई है उससे भाजपाई नेता सकते में पड़ गए हैं. संभवत: इसी वजह से पार्टी का कोई भी बड़ा नेता दिग्गज द्वय की लड़ाई पर कुछ भी औपचारिक तौर पर बोलने के लिए तैयार नहीं है.

प्रेक्षक मान रहे हैं कि श्री आडवाण्ी के ब्लॉग से भले ही आज पार्टी में तूफान खड़ा हो गया हो लेकिन इसकी पृष्ठभूमि पहले ही तैयार हो चुकी थी. आडवाणी ने  बजट सत्र में पार्टी की संसदीय बैठक के दौरान लगातार अनुपस्थित रहकर आने वाले तुफान का साफ संकेत दे दिया था. यहीं नहीं राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद पार्टी द्वारा आयोजित रैली से दूरी बनाना व एनडीए द्वारा आह्वïन भारत बंद में शिरकत नहीं करना भी उनकी रणनीतिक पहल मानी जा रही है.  सूत्रों की माने तो श्री आडवाणी पार्टी अध्यक्ष श्री गडकरी द्वारा किए जा रहे कई अहम फैसलों में वरिष्ठों की अनदेखी की कार्यपद्घति से परेशान थे.

यहीं नहीं उनसे सलाह किए बगैर श्री गडकरी को दूसरी बार अध्यक्ष बनाने के संघ परिवार के एकतरफा फैसला से भी वे नाराज बताए जा रहे हैं. इसके साथ-साथ गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी को अगले चुनाव में प्रधानमंत्री उम्मीदवार के रूप में पेश किया जाने का फैसला, उत्तरप्रदेश चुनाव के पहले बाबू सिंह कुशवाहा प्रकरण व झारखंड प्रकरण में किया गया फैसला भी आडवाणी को नागवार गुजरा. सूत्रों की माने तो पार्टी अध्यक्ष द्वारा लगातार श्री आडवाणी के भावनाओं को दरकिनार करने के बाद ही उनका धैर्य टूटा है और इसी वजह से वे पार्टी अध्यक्ष के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिए हैं.

Related Posts: