पीडीएस को प्रभावी बनाकर जनता को राहत पहुंचाएं : शिवराज

भोपाल,10 नवम्बर नभासं. भाजपा सहकारी प्रकोष्ठ ने आज राज्य सरकार से फ सल बीमा की इकाई पटवारी हल्का से घटाकर किसान के खेत तक किये जाने का आग्रह किया. उधर,मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में किसानों को एक प्रतिशत ब्याज पर अल्पकालीन फसल कर्ज दिया जा रहा है, यह सब सहकारिता के आंदोलन से संभव हुआ है.

 

यह दावे के साथ कहा जा सकता है कि जो प्रभावी सेवा किसानों, मजदूरों, खेतीहरों, भूमिहीनों की सहकारी बैंकों ने की है उसे देश के राष्ट्रीयकृत बैंक नहीं कर पाये हैं. चौहान भारतीय जनता पार्टी सहकारिता प्रकोष्ठ की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे. चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में सार्वजनिक वितरण प्रणाली देश के अनेक राज्यों की तुलना में बेहतर ढंग से कार्य कर रही है. किंतु जहां सुधार की गुंजाईश है हमें कड़ई बरतने में कोई कंजूसी नहीं करनी चाहिए.

प्रदेश संगठन महामंत्री अरविन्द मेनन ने विजन डाक्यूमेंट तैयार करने की आवश्यकता बताई और कहा कि हमें सहकारिता के माध्यम से उन सब क्षेत्रों में पहुंचना है जहां खुशहाली की अपेक्षा की जा रही है. सहकारिता मंत्री गौरीषंकर बिसेन ने कहा कि  किसानों को 1 प्रतिषत ब्याज पर फसल ऋण पैनल इन्ट्रेस्ट समाप्त करके किसानों को बडी राहत प्रदान की है. केन्द्र सहकारी संस्थाओं के लिये पैकेज का भुगतान करें – प्रकोष्ठï ने राजनीतिक प्रस्ताव में मांग की है कि मध्यप्रदेश में वैद्यनाथन समिति की कसौटी पर खरा उतरने वाला उत्कृष्ठ राज्य रहा है. जिससे 1146 करोड़ रूपये का पैकेज मंजूर किया गया. लेकिन इसकी 667 करोड़ रूपये की राशि केन्द्र ने दबा ली जो प्रदेश के सहकारी आन्दोलन के सशक्तीकरण की दिशा में अवरोध है. इसकी कड़े शब्दों में निन्दा की गयी.  इसी तरह बैठक में पारित प्रस्ताव में अल्पकालीन साख और दीर्घ कालीन साख की 1400 करोड़ की राषि रारी नहीं किये जाने की भेदभाव पूर्ण नीति के लिये केन्द्र सरकार की निन्दा की गयी. प्रस्ताव में फ सल बीमा की इकाई पटवारी हल्का से घटाकर किसान के खेत तक किये जाने का आग्रह किया गया.

Related Posts: