बारदाना आपूर्ति को लेकर शिवराज का आरोप

भोपाल, 9 मई.  प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को केंद्र सरकार पर राजनीतिक भेदभाव का आरोप लगाते हुए कहा कि गेहूं खरीद के लिए बारदाना (बोरा) उपलब्ध कराने के मामले में राज्य से वादा खिलाफी की गई है, और इसी के चलते राज्य में गेहूं की खरीद प्रभावित हो रही है.

चौहान ने संवाददाताओं से चर्चा करते हुए कहा कि राज्य में इस बार रिकार्ड पैदावार हुई है. ऐसा किसान की मेहनत और सरकार के सहयोग के चलते हुआ है, मगर केंद्र सरकार जरूरत का बारदाना उपलब्ध नहीं करा रही है. केंद्र सरकार ने एक बार नहीं कई बार बारदाना उपलब्ध कराने की बात की मगर उस वादे को पूरा नहीं किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि पहले 30 अप्रैल, फिर पांच मई और अब 14 मई तक बारदाना देने का वादा किया गया, मगर अब तक एक बारदाना भी नहीं दिया गया है. सरकार ने तय किया है कि जिन जिलों मे ज्यादा खरीदी होना शेष रह गई है वहां अब बिना बारदाना के ही खरीदी की जाएगी. उन्होंने लोक निर्माण विभाग व जल संसाधन विभग के अधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे उन स्थानों का चयन करें, जहां गेहूं का भंडारण किया जा सके.

बरेली में तीसरे दिन भी कफ्र्यू

रायसेन.  जिले के बरेली कस्बे में किसान आंदोलन के दौरान भड़की हिंसा के बाद लगाया गया कफ्र्यू बुधवार को तीसरे दिन भी जारी रहा. सुबह कर्फ्यू में दो घंटे की ढील दी गई. ज्ञात हो कि सोमवार को समर्थन मूल्य पर जारी गेहूं खरीदी में गड़बड़ी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों की पुलिस से जमकर झड़प हुई थी.

किसानों ने जहां जमकर तोडफ़ोड़ कर आगजनी की थी, वहीं पुलिस ने लाठीचार्ज और गोलीबारी की थी. इस घटना में एक किसान हरिसिंह प्रजापति की जान चली गई थी. उसके बाद से बिगड़े हालात के चलते प्रशासन ने कर्फ्यू लगा दिया था. सुबह दो घंटे की कर्फ्यू में ढील दी गई. सुबह आठ से 10 बजे के बीच दी गई कर्फ्यू में ढील के दौरान किसी तरह की विपरीत स्थिति नहीं बनी. लोगों ने इस अवधि मे जरुरी सामान की खरीददारी की. हालात अभी काबू में बताए जा रहे है. पुलिस भारतीय किसान संघ के प्रदेशाध्यक्ष शिवकुमार शर्मा सहित 42 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. वहीं अन्य पर नजर रख रही है.

Related Posts: