अगले मुकाबले की तैयारी

  • वीरु ने दिग्गों को चेताया

कटक,30 नवंबर. भारतीय टीम के कार्यवाहक कप्तान वीरेन्द्र सेहवाग ने कहा है कि उनके साथी बल्लेबाज वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच की गयी गलतियों से सबक लेकर शेष मैचों में बेहतर प्रदर्शन करेंगे.

सेहवाग ने मैच के बाद कहा, उम्मीद है कि बल्लेबाजी में की गयी गलतियों से हम सबक लेंगे, आने वाले मैचों में यह अंतर दिखेगा. इस मैच में भारत अपने पांच विकेट मात्र 59 रन पर खोकर मुश्किल में पड़ गया था, लेकिन रोहित शर्मा की संयम भरी पारी से वह जीतने में कामयाब रहा. उन्होंने कहा, रोहित और रवीन्द्र जडेजा ने वाकई लाजवाब पारियां खेली और महत्वपूर्ण साझीदारी की. हमें उसी समय मैच जीत लेना था, लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हो सका. फिर भी यह अच्छा लगा कि अंत तक हमें जीत मिल ही गयी. कप्तान ने कहा, एक बार फिर से सांसे थाम देने वाला मुकाबला हमारे सामने आया, लेकिन इस बार हम जीतने में कामयाब रहे. यह ज्यादा सुखद है. सेहवाग ने आखिरी बल्लेबाजों वरुण आरोन और उमेश यादव के बारे में कहा, 10वें या 11वें नंबर के बल्लेबाजों को आप कुछ भी निर्देश दे दें, वे वैसा ही करते हैं, जैसा कि खुद करना चाहते हैं. उन्होंने कहा, मैंने तो दोनों से सिर्फ यह कहा कि वे अंतिम गेंद तक खेलने की कोशिश करें. परिणाम चाहे जो भी हो, सब चलेगा और वे मैच को निपटाने में कामयाब रहे.

वीरू ने कहा, भारत के लिए ऐसा बहुत ही कम होता है कि उसके पांच शीर्ष बल्लेबाज मात्र 59 रन पर आउट हो जाएं, लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा हुआ. हमारे बल्लेबाजों ने काफी गलतियां कर दीं. उन्होंने साथ ही कहा, कई अच्छी गेंदें भी की गयी, मैं और विराट कोहली बहुत अच्छी गेंदों पर आउट हुए. अंदर आती गेंद को जल्दी खेलकर हमने गलती की, लेकिन हम गलतियों से ही सीखते हैं और आने वाले मैचों में ऐसा कुछ नहीं होगा. ड्रेसिंग रूम के माहौल पर सेहवाग ने कहा, मैं तो अपनी जगह पर चिपक गया था. अपनी सीट से मैं उठ ही नहीं पा रहा था. हालात बिल्कुल सांसों को थाम देने वाले थे. सेहवाग ने साफ लहजे में कहा कि बल्लेबाजों की नाकामी के लिए वह कोई बहाना नहीं ढूंढेंगे, उन्होंने कहा, तीन बल्लेबाज तो बिल्कुल आसानी से आत्मसमर्पण कर गये. पार्थिव पटेल, सुरेश रैना और गौतम गंभीर जिस तरीके से आउट हुए हैं, उस पर कुछ कहा ही नहीं जा सकता है. उन्होंने कहा, हमारे बल्लेबाजों को आत्मविश्वास हासिल करना होगा.

हमारे पास कुछ शानदार युवा बल्लेबाज हैं जो पिछले तीन-चार वर्षों से खेलते आये हैं. मैं गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण से संतुष्ट हूं, लेकिन बल्लेबाजों को जल्छ सुधार करना होगा. सेहवाग ने कहा, जब आप लगातार विकेट खोने लगते हैं तो वापसी कर पाना बेहद मुश्किल हो जाता है. इन हालात में रोहित, जडेजा और विनय कुमार ने जिस तरह की संयमी बल्लेबाजी की, उन सबकी जमकर तारीफ करनी होगी. उन्हें खेलते देखकर काफी अच्छा लगा था. रोहित की प्रशंसा करते हुए सेहवाग ने कहा, रोहित बेहद प्रतिभाशाली हैं और हर मैच के बाद वह निखरते जा रहे हैं. वह अपने आप को साबित कर रहे हैं. इस मैच में जीत का पूरा श्रेय उन्हें, जडेजा और विनय को जाता है.

हम अपने अंदर चिंगारी नहीं सुलगा सके- सैमी

वेस्टइंडीज के कप्तान डेरेन सैमी ने कहा है कि भारत के खिलाफ पहले एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच में उनकी टीम का फिनिशिंग लाइन पर पहुंच कर चूकना उनके लिए बेहद निराशाजनक रहा.  सैमी ने मैच के बाद कहा, हम अपने अंदर वह चिंगारी नहीं सुलगा सके जो इस फिनिशिंग लाइन के पार हमें ले जा सकती थी. हारना हर हाल में निराशाजनक होता है और आज भी ऐसा ही है. उन्होंने कहा, शुरुआती गेंदबाजों ने हमारे लिए बहुत अच्छी स्थिति बनायी और सच कहें तो हम अंत तक संघर्ष करते रहे, लेकिन अंतिम मौके पर चूक गये. हमने जो लड़ाई लड़ी, वह जीत के लिए काफी नहीं थी. कैरेबियाई कप्तान ने कहा, हम इससे बढिय़ा कर सकते थे, लेकिन कर नहीं सके. हमने 23 रन भी अतिरिक्त दिये और इसका नुकसान उठाना पड़ा. फिर मैं अपने साथी खिलाडिय़ों की पूरी तारीफ करुंगा. उन्होंने संघर्ष तो किया.

Related Posts: