भोपाल, 8 नवंबर.  मध्यप्रदेश राज्य सायबर पुलिस की टीम ने अखबारों में विज्ञापन के माध्यम से आसान लोन, बिना ग्यारंटी व कम ब्याज के लोन देने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले तीन आरोपियों के गिरोह को सोमवार को दिल्ली से गिरफ्तार किया है. पुलिस महानिदेशक राज्य सायबर पुलिस राजेन्द्र मिश्रा ने  बताया कि यह कार्यवाही विश्वनाथ मिश्रा की शिकायत की गई.

इस शिकायत की जाँच उपरांत छोटे निवेशकों के हितार्थ राज्य सायबर पुलिस द्वारा थाना सी.आई.डी. में एफआईआर दर्ज किया गया है. आरोपी लोन के नाम पर धोखाधड़ी के लिये प्रति माह फर्जी पहचान वाली सिम का उपयोग करते थे. प्रतिमा आरोपी विभिन्न प्रदेशों में अखबार के जरिये विज्ञापन जारी करते थे. इस प्रकार आरोपियों द्वारा देश के कई प्रदेश में इस प्रकार लोन के नाम पर धोखाधड़ी की गई. राज्य सायबर पुलिस द्वारा पिछले छ: माह के  प्रयासोपरांत अज्ञात आरोपियों की लोकेशन दिल्ली में प्राप्त होने पर जनकपुरी रोहिडी तिलक नगर में दबिश दी गई और अपराध से संबंधित आरोपी दीपक उर्फ विशाल, विकास भल्ला एवं मिकी मदान को गिरफ्तार किया गया. आरोपियों के पास से लगभग दर्जन भर मोबाइल, विभिन्न बैंक के दर्जन भर कार्ड, फर्जी पहचान पत्र व सिम तथा फोटो जप्त की गई. आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालयीन कार्यवाही की गई है.

राजेन्द्र मिश्रा को शिकायतकर्ता विश्वनाथ मिश्रा ने बताया कि उन्हें मकान बनाने के लिए लोन की आवश्यकता थी. उन्होंने अखबार के क्लासीफाइड आसान लोन बिना गारंटी अत्यंत कम ब्याज में आदि का विज्ञापन पढ़ा जिसमें 2 मोबाइल नंबर दिये थे. जिसे संपर्क करने पर व्यक्ति ने स्वयं का नाम गुप्ता बताया. गुप्ता ने सर्वप्रथम मिश्रा को विश्वास में लेने के उद्देश्य से उनसे आमदनी आदि की जानकारी प्राप्त की और बताया कि उन्हें 5 लाख से 7 लाख रुपये तक का लोन दिया जा सकता है. आरोपियों द्वारा प्रोसेसिंग फीस लोन हेतु एडवांस इस्टालमेंट की पूर्ति, वकील की फीस, सिक्युरिटी डिपाजिट के नाम पर विभिन्न चरणों में लगभग 1 लाख 30 हजार रु. प्राप्त किये गये इस तरह शिकायतकर्ता विज्ञापन के माध्यम से फर्जी लोन देने वाले गिरोह का शिकार हुआ राज्य सायबर पुलिस द्वारा कार्यवाही कर शिकायतकर्ता को राहत प्रदान की गई और आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही सुनिश्चित की गई.

Related Posts: