नयी दिल्ली, 14 नवंबर, नससे. जनता दल (यूनाइटेड) के अध्यक्ष एवं राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के संयोजक शरद यादव ने किंगफिशर कंपनी को घाटे से उबारने के लिए बेलआउट पैकेज दिए जाने के संकेत देने के लिए प्रधानमंत्री की तीखी आलोचना की है. शरद ने कहा कि सरकार महंगाई और किसानों की आत्महत्या पर तो ध्यान नहीं देती और एक प्राइवेट कंपनी के लिए चिंता जाहिर करती है. जो कंपनी अय्याशी के कारण घाटे में चली गई है, उनको उबारने के लिए पैकेज देने की बात करना कैसे न्यायसंगत है. गोदामों में अनाज सड़ रहा है फिर भी सरकार का दिल गरीबों के लिए नहीं दुखता.

यह कितना दुर्भाग्य है कि किंगफिशर कंपनी के लिए सरकार द्रवित है. शरद ने कहा कि जो व्यक्ति 20 हजार करोड रुपए का मालिक है. ओछी हरकतों और मौज-मस्ती का प्रतीक है, उसके लिए पैकेज देने का क्या औचित्य? अगर इसी तरह विमानन कंपनियों को पैकेज दिए गए तो लाइन लग जाएगी. जेट एयरवेज तथा स्पाइस जेट भी इसी तरह का पैकेज मांगने लगेंगी. इस तरह तो जनता के पैसे की लूट का नया रास्ता खुल जाएगा. पूरी दुनिया में विकसित देश कॉरपोरेट सेक्टर के खिलाफ आंदोलन का सामना कर रहे हैं। लगता है कि अपने देश में भी सरकार को इसी तरह के विरोध का सामना करना पड़ेगा।

Related Posts:

मध्यप्रदेश अपार संभावनाओं वाला राज्य
बिहार में विधानसभा अध्यक्ष के पद पर लगी है कांग्रेस की नजर
रोहित ने ठोका दूसरा शतक, भारत ने रखा 309 का लक्ष्य
मनमोहन, चिदंबरम ने दायरे से बाहर जाकर की थी, माल्या की मदद : भाजपा
गोरखा जनमुक्ति मोर्चा का हड़ताल अवैध : ममता
मेधा को जबरन उठाया, 11 अन्य भी हिरासत में, पुलिस ने भांजी लाठियां, कई घायल